International Yoga Day 2020: पीएम बोले- Corona से जंग में योग की जरूरत, इम्यूनिटी होगी स्ट्रॉन्ग

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) पर पीएम मोदी (PM Modi) बोले कि गीता में भगवान कृष्ण ने योग की व्याख्या करते हुए कहा है-‘योगः कर्मसु कौशलम्’, अर्थात्, कर्म की कुशलता ही योग है.
PM Modi address on 6th International Yoga day, International Yoga Day 2020: पीएम बोले- Corona से जंग में योग की जरूरत, इम्यूनिटी होगी स्ट्रॉन्ग

अंतरराष्ट्रीय योगी दिवस (International Yoga Day 2020) आज पूरे देशभर में डिजिटल प्लेटफॉर्म पर मनाया जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने छठे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर लोगों को बधाई दी. पीएम मोदी (PM Modi) ने कहा कि आप प्राणायाम को अपने daily अभ्यास में जरूर शामिल करिए, और अनुलोम-विलोम के साथ ही दूसरी प्राणायाम techniques को भी सीखिए.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

पीएम मोदी (PM Modi) बोले कि गीता में भगवान कृष्ण ने योग की व्याख्या करते हुए कहा है-‘योगः कर्मसु कौशलम्’, अर्थात्, कर्म की कुशलता ही योग है. स्वामी विवेकानंद कहते थे- “एक आदर्श व्यक्ति वो है जो नितांत निर्जन में भी क्रियाशील रहता है, और अत्यधिक गतिशीलता में भी सम्पूर्ण शांति का अनुभव करता है”. किसी भी व्यक्ति के लिए ये एक बहुत बड़ी क्षमता होती है.

यह जाति, रंग, लिंग, विश्वास और राष्ट्रों से परे

पीएम मोदी (PM Modi) ने कहा कि अगर हम अपनी सेहत और उम्मीदों को ठीक कर लें तो वह दिन दूर नहीं, जब दुनिया स्वस्थ और खुशहाल मानवता की सफलता का गवाह बनेगी, योग निश्चित रूप से इसमें मदद कर सकता है. योग हमें स्वस्थ्य ग्रह की खोज की ओर बढ़ाता है. यह मानवीय संबंधों को गहरा करता है. ये इसके साथ भेदभाव से परे हैं, यह जाति, रंग, लिंग, विश्वास और राष्ट्रों से परे है.

कोरोना काल में ऐसे मदद करेगा योग

कोरोना काल में योग का महत्व बताते हुए पीएम मोदी ने कहा कि एक सजग नागरिक के रूप में हम परिवार और समाज के रूप में एकजुट होकर आगे बढ़ेंगे. हम प्रयास करेंगे कि Yoga at home and Yoga with family को अपने जीवन का हिस्सा बनाएं. हम ज़रूर सफल होंगे, हम ज़रूर विजयी होंगे. योग कोरोना से जंग में ज्यादा कारगर साबित होगा, क्योंकि ये इम्यूनिटी बढ़ाने में कारगर साबित होता है.

पीएम बोले- हमारे यहां कहा गया है-युक्त आहार विहारस्य, युक्त चेष्टस्य कर्मसु, युक्त स्वप्ना-व-बोधस्य, योगो भवति दु:खहा।। अर्थात्, सही खान-पान, सही ढंग से खेल-कूद, सोने-जागने की सही आदतें, और अपने काम, अपनी duties को सही ढंग से करना ही योग है

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

Related Posts