इसी मैच ने तय कर दी थी स्टार बल्लेबाज युवराज सिंह की रिटायरमेंट

युवराज सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ये भी बताया कि कौन सी इनिंग के बाद उन्हें अहसास हो गया था कि अब उनका करियर ख़त्म हो चुका है.

नई दिल्ली: भारत को 2011 में विश्वविजेता का खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभाने वाले मैन ऑफ द सीरीज रहे स्टार बल्लेबाज युवराज सिंह ने सोमवार को 18 साल के लंबे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी.

युवराज सिंह को उम्मीद थी कि इस बार के विश्वकप में एक बार फिर से उन्हें टीम का हिस्सा बनने का मौक़ा मिलेगा. विश्वकप टीम के लिए नहीं चुने जाने से हताश युवराज सिंह ने मुंबई में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा की. इस दौरान उनकी मां शबनम और पत्नी हेजल भी वहीं मौज़ूद थीं.

अपनी दमदार बल्लेबाजी और फील्डिंग के बलबूते भारतीय क्रिकेट टीम को कई बार जिताने वाले 37 वर्षीय युवराज सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ये भी बताया कि कौन सी इनिंग के बाद उन्हें अहसास हो गया था कि अब उनका करियर ख़त्म हो चुका है.

2011 विश्व कप और 2007 टी-20 विश्व कप के हीरो माने जाने वाले युवराज सिंह मानते हैं कि 2014 के टी-20 विश्व कप फ़ाइनल में उनके द्वारा 21 गेंदों में बनाए गए 11 रनों की पारी के बाद से ही पतन की शुरुआत हो गई थी.

अप्रैल 2014 में भारत और श्रीलंका के बीच बांग्लादेश में चल रहे टी-20 वर्ल्ड कप के फाइनल में युवराज को सुरेश रैना से पहले चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए भेजा गया. इस मैच में भारत को हार का सामना करना पड़ा था. जिसके बाद धोनी से युवराज को चौथे नंबर पर भेजे जाने के निर्णय पर भी सवाल उठाया गया था.

हालांकि युवराज ढाका के जिस पिच पर खेल रहे थे उस पर कई खिलाड़ियों को रन बनाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ा था लेकिन इस बात को भुला दिया गया.

युवराज ने अपना अंतिम टेस्ट साल 2012 में खेला था. सीमित ओवरों के क्रिकेट में वह अंतिम बार 2017 में दिखे थे. युवराज ने साल 2000 में पहला वनडे, 2003 में पहला टेस्ट और 2007 में पहला टी-20 मैच खेला था.

चंडीगढ़ में साल 1981 में जन्में युवराज ने भारत के लिए 40 टेस्ट, 304 वनडे और 58 टी-20 मैच खेले. टेस्ट में युवराज ने तीन शतकों और 11 अर्धशतकों की मदद से कुल 1900 रन बनाए जबकि वनडे में उन्होंने 14 शतकों और 52 अर्धशतकों की मदद से 8701 रन जुटाए.

इसी तरह टी-20 मैचों में युवराज ने कुल 1177 रन बनाए. इसमें आठ अर्धशतक शामिल हैं.

युवराज ने टेस्ट मैचों में 9, वनडे में 111 और टी-20 मैचो में 28 विकेट भी लिए हैं.

युवराज ने 2008 के बाद कुल 231 टी-20 मैच खेले हैं और 4857 रन बनाए हैं. उन्होंने टी-20 मैचों में 80 विकेट भी लिए हैं.