जाफराबाद दंगा : जुमे की नमाज की तैयारियां पूरी, अतिरिक्त पुलिस बल तैनात

जाफराबाद दंगों के लिए जिम्मेदार ठहराई जा चुकी दिल्ली पुलिस अब हर कदम फूंक-फूंक कर रख रही है. ताकि फिर कहीं कोई आफत सिर न आन पड़े.
Preparations for Namaz, जाफराबाद दंगा : जुमे की नमाज की तैयारियां पूरी, अतिरिक्त पुलिस बल तैनात

तीन दिन तक धूं-धूं कर जले उत्तर पूर्वी दिल्ली जिले में जुमे की नमाज की तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं. जिले में तैनात पुलिस और खुफिया तंत्र ने गुरुवार दोपहर से ही इलाके में मौजूद मस्जिदों की सूची बनाना शुरू कर दिया था. पता चला कि सबसे ज्यादा मस्जिदें मुस्तफाबाद, नूर-ए-इलाही इलाके में हैं. इन इलाकों के अलावा भी जिन अन्य इलाकों में भी मस्जिदें हैं वहां के मुअजिज लोगों से पुलिस ने बीती देर रात तक संपर्क किया.

खुफिया तंत्र और अर्धसैनिक बल तैनात

मस्जिदों की सूची बनवाते समय पुलिस ने यह भी आंकड़ा जुटाया कि, किस मस्जिद पर कितने लोगों की भीड़ मौजूद हो सकती है. साथ ही उन लोगों को भी चिन्हित कर लिया, जो जुमे की नमाज के दौरान खुराफात कर सकते हैं. मिले आंकड़ों के अनुसार ही संबंधित इलाकों में और मस्जिदों पर शुक्रवार सुबह से ही पुलिस, खुफिया तंत्र और अर्धसैनिक बल तैनात कर दिया गया है.

दिन-रात की जा रही गश्त

जाफराबाद दंगों के लिए जिम्मेदार ठहराई जा चुकी दिल्ली पुलिस अब हर कदम फूंक-फूंक कर रख रही है. ताकि फिर कहीं कोई आफत सिर न आन पड़े. इसी क्रम में सभी संवेदनशील इलाकों में दिन-रात गश्त की जा रही है. इलाके के जिम्मेदार लोगों के साथ पुलिस अधिकारी स्वयं लगातार संपर्क में हैं.

दिल्ली पुलिस अब बेहद सतर्क

थानों का फोर्स तो इलाके में 24 घंटे गश्त पर मौजूद है ही. साथ ही साथ क्राइम ब्रांच के अफसर भी तैनात किये गये हैं. गुरुवार शाम के वक्त इसका सबूत तब मिला जब दंगों में सबसे ज्यादा तबाह हुए मुस्तफाबाद इलाके में क्राइम ब्रांच में तैनात इंस्पेक्टर विनय त्यागी को खुद आईएएनएस की टीम ने उस इलाके में मौजूद देखा. दंगा प्रभावित इलाकों में दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के अफसरों की तैनाती भी इस बात का सबूत है कि, उत्तर पूर्वी जिला जल चुकने के बाद दिल्ली पुलिस अब बेहद सतर्क है.

दंगे में सबसे ज्यादा तबाह हुए शिव विहार और ओल्ड मुस्तफाबाद इलाके में तैनात डीसीपी (क्राईम) आईपीएस राजन भगत ने शुक्रवार सुबह आईएनएस को बताया, “हम लोग गली-गली में घूम रहे हैं. इसकी दो वजह हैं. पहली वजह कहीं कोई परिवार घर के अंदर डर के मारे न फंसा हो. दूसरी वजह किसी भी संवेदनशील इलाके में लोग इकट्ठे होकर अफवाहों को जन्म न दे रहे हों. हमारा मकसद लोगों के मन से भय निकालना है. आमजन को लगना चाहिए कि अब इलाके में डर वाली कोई बात नहीं है.”

-IANS

Related Posts