JNU : ABVP का दावा- लेफ्ट विंग ने रची इंटरनेट कनेक्शन काटने की साजिश, हमारे 11 कार्यकर्ता लापता

एबीवीपी के जेएनयू यूनिट के प्रेसिडेंट दुर्गेश कुमार ने कहा कि आज रजिस्ट्रेशन का अंतिम दिन था. एबीवीपी के छात्र कार्यकर्ता सुबह रजिस्ट्रेशन कराने गए थे तो पता चला कि उन्होंने (लेफ्ट विंग स्टूडेंट्स) कल से ही इंटरनेट कनेक्शन ही काट दिया था.
ABVP JNU unit president, JNU : ABVP का दावा- लेफ्ट विंग ने रची इंटरनेट कनेक्शन काटने की साजिश, हमारे 11 कार्यकर्ता लापता

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के जेएनयू यूनिट के प्रेसिडेंट दुर्गेश कुमार ने कहा कि आज रजिस्ट्रेशन का अंतिम दिन था. एबीवीपी के छात्र कार्यकर्ता सुबह रजिस्ट्रेशन कराने गए थे तो पता चला कि उन्होंने (लेफ्ट विंग स्टूडेंट्स) कल से ही इंटरनेट कनेक्शन ही काट दिया था.

उन्होंने आरोप लगाया कि लेफ्ट विंग ने इंटरनेट कनेक्शन काटने की साजिश रची. दुर्गेश कुमार ने कहा, “परेशान स्टूडेंट्स रजिस्ट्रेशन की मांग को लेकर स्वामी विवेकानंद की मूर्ति के पास एकत्र थे. तभी नकाबपोश लेफ्ट विंग के सैकड़ों कार्यकर्ता आए और हमला बोल दिया. एबीवीपी के वर्कर जान बचाने के लिए हॉस्टल्स में घुसे. अब भी हमारे 11 कार्यकर्ताओं का पता नहीं चल रहा है, वे गायब हैं.”

नकाबपोश पुरुषों और चेहरा ढकी महिलाओं ने छात्रावास के कमरे में तोड़फोड़ की और छात्रों की पिटाई की. रोती हुई एक छात्रा ने हिंसा के इस दृश्य के संबंध में बताया, “मैं कमरे में थी. भगदड़ के बीच मैंने कई लड़कियों को आते देखा. मैंने सबसे अपने-अपने कमरे बंद कर लेने को कहा. मैं जब वीडियो क्लिप लेने की कोशिश कर रही थी तभी उन्होंने मेरे ऊपर पत्थर मारा.”

वामपंथी और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के छात्रों ने हालांकि एक दूसरे पर दोषारोपण कर रहे हैं. इस बीच पुलिस आ चुकी है और निषेधाज्ञा लागू हो चुका है.

हिंसा के इस वारदात की निंदा सभी ने की है. राजनीतिक विश्लेषक योगेंद्र यादव ने हिंसा की निंदा करते हुए ट्वीट के जरिए कहा, “जेएनयूएसयू प्रेसीडेंट आईशी घोष की बुरी तरह पिटाई की गई है और उनके सिर से काफी रक्तस्राव हुआ है. यह कब रूकेगा? एसओएसजेएनयू शर्मनाक.”

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के मीडिया सलाहकार डॉ. संजय बारु जेएनयू अलुमनाई हैं और उनकी पत्नी विश्वविद्यालय में शिक्षिका हैं. बारु ने कहा, “मैं परिसर में नहीं रहता हूं. मेरी पत्नी वहां हैं. उनके छात्र-छात्राएं वहां रहते हैं. वे भयभीत हैं. यह संगठित हमला है और मेरे जैसे अलुमनाई को इसका विरोध करना चाहिए.”

ये भी पढे़ं-

LIVE: दिल्ली पुलिस ने JNU कैंपस में किया फ्लैग मार्च, ‘दिल्ली पुलिस वापस जाओ’ के लगे नारे

कैंपस के भीतर पैदा हुई कानून-व्यवस्था की गंभीर स्थिति, इसलिए बुलाई पुलिस: JNU प्रशासन

JNU हिंसा पर प्रियंका गांधी, शबाना आजमी, मनोज तिवारी, राहुल गांधी, ममता बनर्जी ने क्या कहा?

Related Posts