भारतीय एक्शन के बाद PAK को अमेरिका की चेतावनी, कहा- जंग से करो परहेज, आतंकियों पर कसो नकेल

पाकिस्तान की हालत खराब है. चीन हो या अमेरिका कोई भी उसकी मदद करने को राज़ी नहीं. बालाकोट में वायुसेना के खास ऑपरेशन के बाद पाकिस्तान को ट्रंप की तरफ से भी नसीहत मिली है कि जंग का राग मत छेड़ो और चुपचाप घर में पल रहे आतंकियों पर लगाम लगाओ.

जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों पर भारत की कार्रवाई को अब अमेरिका का भी समर्थन मिला है. अमेरिका ने पाकिस्तान से दो टूक कहा है कि वह जल्द से जल्द अपनी जमीन से आतंकी ठिकानों का सफाया करे.

भारत ने मंगलवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सबसे बड़े शिविर को तबाह कर दिया था, जिसमें लगभग 300 से ज्यादा आंतकियों के मारे जाने की खबर है. भारतीय एक्शन के बाद अब अमेरिका ने भी पाकिस्तान को लताड़ा है और सख्त रूख अपनाते हुए कहा है कि जल्द से जल्द पाकिस्तान आतंकी संगठनों के खिलाफ गंभीर कार्रवाई करे. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने कड़े शब्दों में कहा कि पाकिस्तान को उसके जमीन पर पनप रहे आतंकी संगठनों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करना चाहिए. साथ ही अमेरिका ने पाकिस्तान को जंग से परहेज करने की नसीहत भी दे डाली.

अमेरिकी विदेश मंत्रालय की ओर से बयान जारी कर कहा गया है कि पाकिस्तान को उसकी जमीन पर चल रहे आतंकी कैंपों को तुरंत खत्म कर देना चाहिए. वहीं, अमेरिकी विदेश मंत्रालय के मुताबिक विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों से बातचीत की और दोनों से शांति बनाए रखने की अपील की. अमेरिका ने पाकिस्तान को किसी भी सैन्य कार्रवाई से बचने के लिए कहा और शांति बनाए रखने की अपील की. यह पहली बार नहीं है जब अमेरिका ने पाकिस्तान को लताड़ा है, इससे पहले भी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान को चेताया था और अमेरिका की ओर से पाकिस्तान को दी जाने वाली मदद पर भी रोक लगा दी थी.

पुलवामा हमले के बाद दुनियाभर में पाकिस्तान की जबरदस्त किरकिरी हो रही है. मंगलवार को हुए भारतीय एक्शन के बाद चीन पहुंचीं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने चीन के विदेश मंत्री वांग यी से मुलाकात की और पुलवामा हमले का मुद्दा उठाया. सुषमा स्वराज ने कहा कि ‘पुलवामा हनमले में जैश-ए-मोहम्मद का हाथ है जो कि पाकिस्तान की धरती से संचालित हो रहा है’. सुषमा स्वराज की चीन यात्रा ऐसे समय में हो रही है जब एक दिन पहले ही भरतीय वायुसेना ने पाकिस्तान स्थित आतंकवादी ठिकानों पर हवाई हमले में कई आतंकियों के ढेर किया है. बता दें कि चीन पाकिस्तान का करीबी दोस्त रहा है. एयर स्ट्राइक के बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मंगलावर को अमेरकी, चीनी, सिंगापुर, बांग्लादेशी और अफगानिस्तानी विदेश मंत्रियों से बात की और उन्हें पाकिस्तान में जैश-ए-मोहम्मद के आंतकी संगठनों पर हुई कार्रवाई की जानकारी दी.