सुरक्षित नहीं रहेंगे छात्र तो कैसे होगी तरक्की, JNU हिंसा पर हूं स्तब्ध: CM केजरीवाल

सीएम केजरीवाल ने ट्वीट करके कहा कि 'जेएनयू में हिंसा के बारे में जानकर मैं स्तब्ध हूं. छात्रों पर बर्बरता के साथ हमले किए गए.'
Delhi Chief Minister, सुरक्षित नहीं रहेंगे छात्र तो कैसे होगी तरक्की, JNU हिंसा पर हूं स्तब्ध: CM केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में रविवार को हुई हिंसा पर दुख जताया है. कुछ नकाबपोश हमलावरों ने जेएनयू परिसर में घुसकर छात्र-छात्राओं और शिक्षकों की पिटाई की.

केजरीवाल ने ट्वीट के जरिए कहा, “जेएनयू में हिंसा के बारे में जानकर मैं स्तब्ध हूं. छात्रों पर बर्बरता के साथ हमले किए गए. पुलिस को शीघ्र हिंसा पर लगाम लगाकर शांति बहाल करनी चाहिए. अगर हमारे छात्र विश्वविद्यालय के भीतर सुरक्षित नहीं होंगे तो देश कैसे तरक्की करेगा.”


विश्वविद्यालय परिसर में हुए बवाल में जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष समेत कई छात्र बुरी तरह जख्मी हुए हैं. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एवीवीपी) और वाम दलों से जुड़े संगठन के छात्रों के बीच विश्वविद्यालय परिसर में रविवार की शाम टकराव हुआ. कथित तौर पर मारपीट में बाहरी लोग भी शामिल थे.

घटनास्थल से प्राप्त विजुअल में आइशी घोष के शरीर से काफी खून निकलता देखा जा रहा है. आइशी को कथित तौर पर लोहे की छड़ से उनकी आंख पर हमला किया गया. उनको पास के अस्पताल ले जाया गया है.

जेएनयूएसयू के महासचिव सतीश चंद्र भी घायल हुए हैं और कुछ शिक्षकों पर भी कथिततौर पर हमले किए गए हैं.

केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण और विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने जेएनयू में हुई हिंसा की निंदा की है. दोनों केंद्रीय मंत्री जेएनयू के अलुमनाई हैं. जेएनयू परिसर में रविवार को कुछ नकाबपोश लोगों ने घुसकर छात्रों के साथ मारपीट की और तोड़फोड़ मचाई. नकाबपोश लकड़ी के डंडे और लोहे की छड़ से लैस थे.

सीतारमण ने एक ट्वीट के जरिए कहा, “जेएनयू से भयावह तस्वीरें आ रही हैं. इस जगह को मैं जानती हूं और जहां से कड़ी बहस और राय के लिए मेरी यादें जुड़ी हैं, लेकिन कभी हिंसा नहीं देखी. मैं साफतौर पर आज की घटना की निंदा करती हूं. बीते कुछ सप्ताहों के दौरान क्या कहा गया उस पर ध्यान दिए बिना यह सरकार विश्वविद्यालयों में सभी छात्रों के लिए सुरक्षित जगह चाहती है.”


सीतारमण ने जेएनयू से एमफिल किया है. जेएनयू से राजनीतिक विज्ञान एमए और अंतर्राष्ट्रीय संबंध में पीएचडी कर चुके जयशंकर ने भी ट्विटर पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की. उन्होंने ट्वीट के जरिए कहा, “जेएनयू में जो हो रहा है उसकी तस्वीरें देखीं. स्पष्टतौर पर हिंसा की निंदा करता हूं. यह विश्वविद्यालय की परंपरा और संस्कृति के बिल्कुल विपरीत है.”

ये भी पढे़ं-

LIVE: दिल्ली पुलिस ने JNU कैंपस में किया फ्लैग मार्च, ‘दिल्ली पुलिस वापस जाओ’ के लगे नारे

JNU Violence: ABVP का दावा- लेफ्ट विंग ने रची इंटरनेट कनेक्शन काटने की साजिश, हमारे 11 कार्यकर्ता लापता

कैंपस के भीतर पैदा हुई कानून-व्यवस्था की गंभीर स्थिति, इसलिए बुलाई पुलिस: JNU प्रशासन

Related Posts