दिल्ली चुनाव: कांग्रेस ने जारी किए दो मैनिफेस्टो, CAA-NRC-NPR को बनाया मुख्य मुद्दा

कांग्रेस ने सर्वोच्च न्यायालय में नागरिकता कानून की संवैधानिकता को चुनौती देगी. कांग्रेस ने अपने मैनिफेस्टो में NRC को दिल्ली में लागू नहीं करने की बात कही. इसके साथ एनपीआर को मौजूदा स्वरूप में लागू नहीं किया जाएगा.
Congress Manifesto Focus on Environment, दिल्ली चुनाव: कांग्रेस ने जारी किए दो मैनिफेस्टो, CAA-NRC-NPR को बनाया मुख्य मुद्दा

दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस ने रविवार को अपना घोषणापत्र जारी कर दिया है. इसी के साथ दिल्ली को लेकर कांग्रेस का विजन भी साफ हो गया है. कांग्रेस ने दो घोषणा पत्र जारी किए. कांग्रेस ने पर्यावरण और परिवहन पर अलगअलग घोषणा पत्र जारी किया है. घोषणा पत्र में पर्यावरण के मुद्दों पर फोकस किया गया है.

इस दौरान DPCC अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा, CWC सदस्य आनंद शर्मा और घोषणा पत्र कमिटी के चेयरमैन अजय माकन भी मौजूद थे. आइए, आपको बताते हैं कि कांग्रेस के घोषणा पत्र में क्या खास है.

कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में कहा है कि पार्टी 21 फरवरी 2020 तक अनुछेद 131 के तहत नागरिकता कानून बिल को लेकर सुप्रीम कोर्ट का रूख करेगी. पार्टी सर्वोच्च न्यायालय में नागरिकता कानून की संवैधानिकता को चुनौती देगी. कांग्रेस ने अपने मैनिफेस्टो में NRC को दिल्ली में लागू नहीं करने की बात कही. इसके साथ कांग्रेस ने कहा कि एनपीआर को मौजूदा स्वरूप में लागू नहीं किया जाएगा. कांग्रेस ने लोकपाल बिल पारित करने की भी बात कही है.

– कांग्रेस ने सभी अनाधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने का वादा किया है. इन कॉलोनियों के उत्थान के लिए 5 साल में 35 हजार करोड़ रुपए खर्च करने की बात कही.
– कांग्रेस की तरफ से तिपहिया और ई-रिक्शा चालकों के सभी बाकी लोन माफ करने का एलान किया गया है.
– कांगेस के घोषणा पत्र में युवाओं को सुभाने की कोशिश की गई है. जॉब क्रिएशन की बात कही गई. वहीं ग्रेजुएट युवाओं को को 5000 रूपए और पोस्ट  ग्रेजुएट युवाओं को 7500 रुपए प्रतिमाह बेरोजगारी भत्ता देने का वादा किया गया है.
– सरकारी नौकरियों में महिलाओं को 33% आरक्षण देने का वादा.
– सरकार बनने के 6 महीने में दिल्ली सरकार में खाली पड़े पदों को भरने का वादा.
– 5000 करोड़ का फंड, स्टार्ट अप्स को जरूरी सहयोग प्रदान करने के लिए. ये राशि पांच हिस्सों में खर्च की जाएगी. हर साल 1000 करोड़ रूपए खर्च किए जाएंगें.
– बीपीएल परिवारों को स्टार्टअप के लिए 25 लाख रुपए की राशि7.योजना के तहत 5 लाख जरूरतमंद परिवारों को हर साल ₹ 72000 दिए जाएंगे.
– बीपीएल परिवार को हर महीने 3 किलो दाल 25 रूपए प्रति किलो की दर पर और 1 लीटर खाद्य तेल 20 रूपए प्रति लीटर की दर से मिलेगा. पीडीएस सूची में चीनी शामिल की जाएगी. पीडीएस सूची में चीनी भी शामिल की जाएगी.
– कांग्रेस ने पर्यावरण और परिवहन के लिए अलग से मेनिफेस्टो जारी किया है.
– 15000 इलेक्ट्रिक बसें शुरू की जाएगी, मौजूदा बसों को पुरानी बसों से बदलेंगे.
– इलेक्ट्रिक कार चार्ज करने के लिए 1000 इलेक्ट्रिक चार्ज स्टेशन स्थापित किए जाएंगे.
– ओला, उबर और थ्री व्हीलर पर लोन चुकाने का वादा
– छात्राओं के लिए सरकारी स्कूलों व कॉलेजों में नर्सरी से PHD तक शिक्षा पूरी तरह फ्री रहेगी.
– झुग्गी और पुनर्वास कॉलोनी में रहने वाले छात्रों को प्राइवेट तथा सरकारी स्कूलों में 12वीं तक की शिक्षा में रियायत मिलेगी.
– लाडली योजना के तहत छात्राओं के लिए सरकारी स्कूलों व कॉलेजों में नर्सरी से PHD तक शिक्षा पूरी तरह फ्री रहेगी.
– ग्रेजुएट कन्याओं की शादी के लिए 1 लाख 10 हजार की राशि ‘शगन’ के तौर पर दिल्ली सरकार देगी. जिससे की कन्याओं को ग्रेजुएशन कराने के लिए प्रोत्साहन मिले.
– अनाथ लड़कियों के विवाह के लिए 5000 रूपए प्रदान करेंगे.
– महिलाओं और विकलांगों को 5000 रूपए की पेंशन देने का वादा.
– महिलाओ को साल में 1 बार निशुल्क स्वास्थ्य जांच का भी वादा.
– 10 विश्वस्तरीय कॉलेजों के निर्माण का वादा
– 300 यूनिट तक बिजली फ्री रहेगी और 300 से 400 यूनिट तक 50 फीसदी, 400-500 तक 30% ,500-600 तक 25% की छूट देने का वादा. छोटे दुकानदारों को जिनके कनेक्शन 5 किलोवॉट से कम है उन्हें 200 यूनिट तक बिजली फ्री दी जाएगी.
– 20 हजार लीटर मुफ्त पानी से कम खर्च करने पर 30 पैसा/लीटर का कैशबैक देने का वादा.
– कर्नाटक में खोले गए इंदिरा कैंटीन की तर्ज पर दिल्ली में इंदिरा कैंटीन खोले जाएंगें. इनका संचालन पूरी तरह से महिलाएं करेंगी.
– ट्रांसजेंडर के लिए शीला पेंशन योजन के तहत 5000 रूपए प्रतिमाह देने का प्रावधान होगा.
– ग्रामीण इलाकों में 2 नए मेडिकल कॉलेज स्थापित करेंगे. कॉलेजों में 300 सीट बढ़ाने का वादा.
– दलित/आदिवासियों को 5 लाख का लोन बिना जमानत के देने का वादा.
– 2021 से लिए जाने वाले दिल्ली सरकार के सभी नए वाहन इलेक्ट्रिक होंगे.

ये भी पढे़ें-

Budget 2020: जानिए क्या-क्या हुआ सस्ता और कौन सी चीजें हुईं महंगी

निर्मला सीतारमण ने दिया भारत के इतिहास का सबसे लंबा बजट भाषण, तोड़ा इनका रिकॉर्ड

Related Posts