पुलवामा हमले के बाद खुद का चेहरा छिपाने के लिए पाकिस्‍तान ने फिर की कश्‍मीर पर किचकिच

पाकिस्तानी आर्मी के मेजर जनरल आसिफ गफ्फूर ने पुलवामा हमले में पाकिस्तान का हाथ होने की बात को सिरे से खारिज कर दिया है. उन्होंने कहा कि, 'हमले में इस्तेमाल की गई गाड़ी और विस्फोटक स्थानीय थे.

इस्‍लामाबाद: पुलवामा हमले के बाद दुनिया भर में आलोचना झेल रहा आतंक को पनाह देने वाला पाकिस्तान अब अपना चेहरा छिपाने की कोशिश कर रहा है. वहां की आर्मी अमन और शांति का दिखावा कर रही है. पाकिस्तानी आर्मी के मेजर जनरल आसिफ गफ्फूर ने पुलवामा हमले में पाकिस्तान का हाथ होने की बात को सिरे से खारिज कर दिया है.  उन्होंने कहा कि, ‘हमले में इस्तेमाल की गई गाड़ी और विस्फोटक स्थानीय थे. मेजर जनरल ने एक बार फिर कश्मीर राग अलापा’. उन्होंने भारत पर कश्मीरियों की आवाज दबाने का आरोप लगाया. हालांकि, उन्होंने ये भी कहा कि, ‘भारत सबूत दें, तो हम कार्रवाई करेंगे.’
भारत पर जंग को बढ़ावा देने का आरोप
पाकिस्तान के मेजर जनरल ने भारत पर जंग को बढ़ावा देने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि, ‘भारत की तरफ से जंग की धमकी दी जा रही है. जबकि पाकिस्तान दोस्ती चाहता है’. मेजर जनरल ने जंग को मूर्खता बताया और कहा कि, ‘दो लोकतांत्रिक देशों में जंग नहीं होती’. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि, ‘अगर भारत ने हमला किया, तो उसका जवाब देने के लिए पाकिस्तान की सेना भी तैयार है और पाकिस्तान को अपनी रक्षा का पूरा हक है’. मेजर जरनल ने ये भी दावा किया कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने भारत को वो ऑफर दिए, जो पहले कभी नहीं दिए गए. पाकिस्तान भारत के साथ दशहतगर्दी के मुद्दे पर भी चर्चा के लिए तैयार है.
भारत के अल्पसंख्यकों का मुद्दा उठाया 
पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ सकता. उसकी फितरत भारत के मुसलमानों को भड़काने की रही है. पुलवामा अटैक का जिक्र करते हुए मेजर जनरल ने गफूर ने पूछा कि, ‘इस हमले के बाद भारत में मुसलमानों के साथ क्या हो रहा है?’
पाकिस्तान के मुंह से शांति की बात अच्छी नहीं लगती !
पाकिस्तानी मेजर जनरल ने क्षेत्र के लोगों के लिए रोजगार, शिक्षा और स्वास्थ्य की सुविधाएं मुहैया करवाने की बातें कहीं. साथ ही कहा कि ‘उन लोगों को जीने का अधिकार है’. मेजर जनरल ने भारत पर निशाना साधते हुए कहा कि, ‘पाकिस्तान से दुश्मनी कर लें, लेकिन इंसानियत से दुश्मनी ना करें’. हैरान करने वाली बात ये है कि आतंक को पनाह देने वाला देश भारत को इंसानियत की परिभाषा समझा रहा है.
MFN का दर्जा छिनने से परेशान !
भारत ने पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस लिया तो पाकिस्तान परेशान हो गया. मेजर जनरल के बयान में भी ये परेशानी दिखाई दी. पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान से आयात होने वाले सभी सामानों पर सीमा शुल्क बढ़ाकर 200 फीसदी कर दिया था. जिसका असर पाकिस्तान में भी दिखा और मेजर जरनल के बयान में भी ये दर्द झलका.
भारतीय मीडिया पर भड़के मेजर जनरल
आसिफ गफ्फूर भारतीय मीडिया पर भी भड़के. उन्होंने भारत और पाकिस्तानी मीडिया का अंतर बताया और कहा कि, ‘भारत का मीडिया इस वक्त वॉर जर्नलिज्म कर रहा है’. हैरान करने वाली बात ये है कि जिसके देश में दुनिया का सबसे खूंखार आतंकी ओसामा बिन लादेन ठहरा था. जिसके देश में भारत के कई मोस्ट वांटेड आतंकी खुलेआम घूमते हैं. वो देश भारत को शांति और इंसानियत का पाठ पढ़ा रहा है. कितनी हैरानी की बात है.