Coronavirus: यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों ने लगाई वतन वापसी की गुहार, सामने आए परिजन

यूक्रेन की सरकार सुरक्षा उपायों में अपने नागरिकों पर ज्यादा ध्यान दे रही है. भारत की तुलना में यूक्रेन में डॉक्टरों और मेडिकल सुविधाओं की भी कमी है.
Indian students stranded in Ukraine, Coronavirus: यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों ने लगाई वतन वापसी की गुहार, सामने आए परिजन

कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के बीच दुनिया के कई देशों में अब भी भारतीय लोग फंसे हुए हैं. वे और भारत में उनके परिजन सोशल मीडिया का सहारा लेकर सरकार से  उन्हें वापस लाने की गुहार लगा रहे हैं. ताजा मामला मशहूर महिला कवि मानसी द्विवेदी का है. उन्होंने यूक्रेन (Ukraine) में फंसे अपने भतीजे और दूसरे स्टूडेंट्स के लिए सोशल मीडिया के कई प्लेटफार्म पर मदद की गुहार लगाई है.

इस समय लगभग पूरी दुनिया में कोरोनावायरस फैल चुका है. यूक्रेन में भी इसके बहुत मामले सामने आ चुके हैं. भारतीय सरकार अपने नागरिकों की कोरोना से रक्षा के लिए देश वापस बुलाने का लगातार प्रयास कर रही है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

कुछ भारतीय छात्र यूक्रेन के ओडेसा (Odessa, Ukraine) शहर में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे हैं. उन सभी ने अपने-अपने ट्विटर अकाउंट से भारतीय सरकार से यह अपील की है कि सरकार उन्हें यूक्रेन से सुरक्षित भारत वापस ले आए. मानसी द्विवेदी ने वहां फंसे अपने भतीजे और अन्य छात्रों के दर्द को सामने रखा है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

उनके भतीजे मनीष द्विवेदी का कहना है कि यूक्रेन में फंसे छात्र इस समय वहां फैले कोरोना वायरस की वजह से बहुत चिंतित है. 12 मार्च के बाद से वहां सब कुछ बंद कर दिया गया है और किसी को भी किराना स्टोर और मेडिकल स्टोर के अलावा कहीं जाने की अनुमति नहीं है.

उन्होंने यूक्रेन की वर्तमान स्थितियों से भी अवगत कराया और कहा कि यूक्रेन में कोरोना वायरस के बहुत से मामले सामने आ चुके हैं और कई लोगों की इससे मौत भी हो चुकी है, इसलिए वे सभी यूक्रेन की मौजूदा परिस्थितियों से अपने लिए बहुत चिंतित हैं. उन्होंने बताया कि यूक्रेन की सरकार सुरक्षा उपायों में अपने नागरिकों पर ज्यादा ध्यान दे रही है. भारत की तुलना में यूक्रेन में डॉक्टरों और मेडिकल सुविधाओं की भी कमी है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

छात्रों ने अपनी समस्या बताते हुए कहा कि उनकी सबसे बड़ी समस्या भाषा की है, क्योंकि अभी वे रूसी और यूक्रेनी भाषा में पारंगत नहीं है. उन्होंने बताया कि उन्होंने कुछ दिनों पहले भारतीय दूतावास से संपर्क करने की कोशिश की थी लेकिन उससे समस्या का कोई उचित समाधान नहीं मिला है. उन्होंने कहा कि उन्हें डर है कि अगर उन्हें कुछ हो जाता है तो ऐसी स्थिति में यूक्रेन में उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया जाएगा और इस वजह से उनके माता-पिता भी उनके लिए बहुत चिंतित हैं.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts