जेपी नड्डा होंगे BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष, 19 फरवरी को होगी ताजपोशी

फिलहाल जेपी नड्डा भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष हैं. ताजपोशी के बाद वह अगले तीन साल तक दुनिया के सबसे बड़े राजनीतिक दल के अध्यक्ष होंगे.
JP Nadda crowned, जेपी नड्डा होंगे BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष, 19 फरवरी को होगी ताजपोशी

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर जे पी नड्डा की ताजपोशी 19 फरवरी को होगी. माना जा रहा है कि 19 फरवरी तक बीजेपी के 80 फीसदी से ज्यादा राज्य इकाइयों के चुनाव पूरे हो जाएंगे और उसके बाद ही राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव होगा.

सूत्रों के मुताबिक, जेपी नड्डा का पार्टी का 11वां अध्यक्ष बनना तय माना जा रहा है. फिलहाल बीजेपी में संगठन के चुनाव चल रहे हैं. बीजेपी के संविधान के मुताबिक 50 फीसदी से ज्यादा राज्य इकाइयों के चुनाव हो जाने के बाद बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव किया जा सकता है.

फिलहाल जेपी नड्डा भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष हैं. ताजपोशी के बाद जे पी नड्डा अगले तीन साल तक दुनिया के सबसे बड़े राजनीतिक दल के अध्यक्ष होंगे. राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव के लिए जरूरी आधे से अधिक राज्यों के पार्टी अध्यक्ष की चुनाव की प्रक्रिया 18 जनवरी तक पूरी कर ली जाएगी.

अमित शाह के अध्यक्ष पद का कार्यकाल पिछले साल जनवरी में ही पूरा हो गया था. हालांकि लोकसभा चुनावों को देखते हुए उनकी यह जिम्मेदारी आगे तक के लिए बढ़ा दी गई थी.

अमित शाह के गृहमंत्री बनने के बाद जेपी नड्डा को भाजपा का कार्यकारी अध्यक्ष बना दिया गया. इसके बाद पार्टी के संविधान के अनुसार पार्टी के अध्यक्ष की चुनाव की प्रक्रिया शुरु हुई, जो 19 जनवरी तक पूरी हो जाएगी.

जेपी नड्डा मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में स्वास्थ्य मंत्री रहे. उन्होंने अपने कार्यकाल में 50 करोड़ गरीबों के पांच लाख रूपये सालाना तक मुफ्त इलाज की आयुष्मान भारत और बच्चों के टीकाकरण के लिए इंद्रधनुष जैसी महत्वाकांक्षी योजनाओं को सफलतापूर्वक लागू किया.

जेपी नड्डा को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली, तभी से साफ हो गया था कि उन्हें भाजपा के संगठन की कमान सौंपी जाएगी.

बता दें कि जेपी नड्डा छात्र राजनीति के समय एबीवीपी से जुड़े और संगठनों के विभिन्न पदों पर रहते हुए पहली बार 1993 में हिमाचल प्रदेश से विधायक चुने गये थे. उसके बाद वे राज्य और केंद्र में मंत्री भी रहे हैं.

ये भी पढ़ें-

यूपी में घड़ियाली आंसू बहाने आती हैं प्रियंका, लेकिन कोटा में बच्चों की मांओं से मिलने नहीं गईं: मायावती

गठबंधन कर दिल्ली में चुनाव लड़ रहीं AAP और कांग्रेस, विजय गोयल का दावा

धर्म के आधार पर लोगों को बांटने के लिए लाया गया CAA, CWC बैठक में बोलीं सोनिया गांधी

Related Posts