जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट चलते ही वायरल हुई उमर अब्दुल्ला की ये तस्वीर, ममता बनर्जी बोलीं- दुख हुआ

ममता बनर्जी ने तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा कि 'मैं इस तस्वीर में उमर को नहीं पहचान सकी. मुझे बुरा लग रहा है.'

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. अब्दुल्ला इस तस्वीर में बड़ी हुई दाड़ी में नजर आ रहे हैं. पहली नजर में तो उन्हें पहचानना भी मुश्किल हो रहा है.

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से नेशनल कान्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला को हिरासत में रखा गया है. हालांकि यह साफ नहीं हो पाया है कि अब्दुल्ला की इस तस्वीर को कब लिया गया था. मालूम हो कि शनिवार को जम्मू-कश्मीर के 20 जिलों में 2जी इंटरनेट सर्विसेज को बहाल किया गया है.

ममता बनर्जी ने तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा कि ‘मैं इस तस्वीर में उमर को नहीं पहचान सकी. मुझे बुरा लग रहा है. यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि ऐसा एक लोकतांत्रिक देश में हो रहा है. यह कब खत्म होगा.’


उमर अब्दुल्ला व उनके पिता फारूक अब्दुल्ला और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती उन सैकड़ों नेताओं, सामाजिक कार्यकर्ताओं, वकीलों और बिजनेसमैन्स में शामिल थे जिन्हें जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से नजरबंद किया गया है.

केंद्र सरकार ने पिछले साल 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटा दिया था. साथ ही इसे दो केंद्र शासित राज्यों लद्दाख और जम्मू-कश्मीर में बांट दिया था.

अब्दुल्ला, मुफ्ती और अन्य नेताओं को अनुच्छेद 107 के आपराधिक प्रक्रिया संहिता के तहत हिरासत में रखा गया है. यह कानून अधिकारियों और एक कार्यकारी मजिस्ट्रेट को किसी भी शख्स को हिरासत में रखने का अधिकार देता है. अगर प्रशासन को इस बात की जानकारी मिलती है कि वह शख्स राज्य की शांति को भंग कर सकता है.

घाटी में पांच अगस्त से तीन पूर्व मुख्यमंत्री नजरबंद हैं. उमर के पिता फारूक अब्दुल्ला को श्रीनगर में उनके गुप्ता रोड स्थित आवास पर रखा गया है. पहले ऐसी खबरें थीं कि प्रशासन द्वारा हरि निवास में नजरबंद किए गए उमर को गुप्ता रोड पर एक घर में ले जाया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ है. वहीं पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को भी एम. ए. रोड पर एक सरकारी भवन में रखा गया है.

ये भी पढ़ें-

दिल्ली: भजनपुरा में गिरी निर्माणाधीन इमारत, 5 छात्रों की दर्दनाक मौत

जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट की बहाली सराहनीय, नजरबंद नेताओं की जल्द हो रिहाई: अमेरिकी मंत्री

राजस्थान विधानसभा में पास हुआ CAA विरोधी प्रस्ताव, केरल, पंजाब के बाद ऐसा करने वाला तीसरा राज्य