Delhi Election: पीएम मोदी बोले- शाहीन बाग में चल रहा प्रदर्शन संयोग नहीं, एक प्रयोग है

पीएम मोदी ने कहा, "सीलमपुर हो, जामिया हो या फिर शाहीन बाग, बीते कई दिनों से सिजिटनशिप अमेंडमेंट बिल को लेकर प्रदर्शन हुए हैं. क्या ये प्रदर्शन सिर्फ एक संयोग हैं? नहीं."
PM Narendra Modi, Delhi Election: पीएम मोदी बोले- शाहीन बाग में चल रहा प्रदर्शन संयोग नहीं, एक प्रयोग है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को राजधानी दिल्ली के कड़कड़डूमा में एक चुनावी रैली को संबोधित कर रहे हैं. पीएम मोदी ने इस दौरान कहा कि दिल्ली के लोगों के मन में क्या है, ये बताने की जरूरत नहीं, ये आज साफ-साफ दिख रहा है.

पीएम मोदी ने कहा, “लोकसभा चुनाव में दिल्ली के लोगों ने एक-एक वोट से भाजपा की ताकत बढ़ाई. सातों सीटें देकर दिल्ली के लोगों ने बता दिया था कि वो किस दिशा में सोच रहे हैं. देश बदलने में दिल्ली के लोगों ने बहुत मदद की है.”


पीएम मोदी ने कहा कि राम मंदिर पर फैसला आने और अनुच्छेद 370 को हटाने में 70 साल लग गए.

उन्होंने कहा कि 8 फरवरी को पड़ने वाला वोट सिर्फ सरकार बनाने के लिए नहीं, इस दशक में दिल्ली के विकास को नई ऊंचाई पर पहुंचाने के लिए होगा. ये काम कौन कर सकता है? वो भारतीय जनता पार्टी, जो अपने हर संकल्प को पूरा करती है, जो कहती है, वो करती है.

पीएम मोदी ने कहा, “पहले की सरकारों ने कैसे-कैसे देश को उलझाकर रखा था. ये फैसले पहले भी लिए जा सकते थे, ये समस्याएं पहले भी सुलझाई जा सकती थीं. लेकिन जब स्वार्थ नीति ही राजनीति का आधार हो, तो फैसले टलते भी हैं और अटकते भी हैं.”

उन्होंने कहा कि शत्रु संपत्ति कानून कितने साल बाद लागू हुआ? 50 साल के बाद. बोडो आंदोलन के समाधान वाला समझौता कितने साल बाद हुआ? 50 साल के बाद. पूर्व सैनिकों को OROP का लाभ कितने साल बाद मिला? 40 साल के बाद. 84 के सिख नरसंहार में दोषियों को सजा कितने साल बाद मिली? 34 साल बाद.


पीएम मोदी ने कहा, “वायुसेना को नेक्स्ट जनरेशन लड़ाकू विमान कितने साल बाद मिला? 35 साल बाद. बेनामी संपत्ति कानून कितने साल बाद लागू हुआ? 28 साल बाद. शहीद पुलिसकर्मियों के लिए नेशनल पुलिस मेमोरियल कितने साल बाद बना? 50-60 साल के बाद बना.”

उन्होंने कहा कि CAA से हिंदुओं, सिखों और ईसाईयों को नागरिकता का अधिकार कितने साल बाद मिला? 70 साल बाद. शहीद जवानों के लिए देश में नेशनल वॉर मेमोरियल कितने साल बाद बना? 50-60 साल बाद के बाद बना.

पीएम मोदी ने कहा, “आज देश के इतिहास में पहली बार हुआ है कि जब विपक्ष को किसी सरकार से शिकायत है. ये कहते हैं कि मोदी जी इतनी जल्दी क्या है? जरा धीरे-धीरे काम करो, इतनी तेजी से एक के बाद एक बड़े फैसले क्यों ले रहे हो? इसकी जरूरत क्या है?”

उन्होंने कहा कि 20 साल बहुत कुछ आपने देख लिया है, बहुत बर्बादी आप देख चुके हैं. अब एक ही रास्ता बचा है. अब दिल्ली में भाजपा का आना बहुत जरूरी है. जब दिल्ली में भाजपा की सरकार बनेगी, तो देशभर में हम जो काम कर रहे हैं, वो काम हम दिल्ली में भी आसानी से कर पाएंगे.

पीएम मोदी ने कहा कि देश के लोगों को लोकपाल मिल गया लेकिन दिल्ली की जनता अभी भी लोकपाल का इंतजार कर रही है. इसे लेकर बहुत बड़ा आंदोलन हुआ था, बड़े वादे किए गए थे, उन सबका क्या हुआ?


पीएम मोदी ने कहा, “जब तक ये लोग बैठे रहेंगे, तब तक ये दिल्ली के लोगों की भलाई के कामों में रोड़े अटकाते ही रहेंगे, रुकावट डालते रहेंगे. क्योंकि वो सिवाय राजनीति के कुछ जानते ही नहीं हैं. 5 साल में 2 करोड़ घर केंद्र सरकार ने गरीबों के लिए देशभर में बनाए. इसमें से एक भी घर दिल्ली सरकार की वजह से यहां नहीं बन पाया.”

उन्होंने कहा कि पिछले 5 साल में इतना सारा काम देश में हुआ, गरीबों को रहने के लिए घर मिले, लेकिन दिल्ली की सरकार यहां के गरीबों को रहने के लिए घर नहीं देना चाहती. पीएम आवास योजना यहां की सरकार की वजह से लागू नहीं हो पाई है.

पीएम मोदी ने कहा, “दिल्ली भाजपा ने संकल्प लिया है और अपने घोषणापत्र में कहा है कि इन कॉलोनियों के तेज विकास के लिए डेवलपमेंट बोर्ड बनाया जाएगा. जहां झुग्गी, वहां पक्का घर भी बनेगा. झुग्गी में रहने वाले परिवारों को पक्का घर देने के लिए तेजी से काम किया जाएगा. जिन लोगों ने सोचा नहीं था कि वो अपने जीवन में कभी अपने घर की रजिस्ट्री करा सकेंगे, अब वो अपने घर का सपना सच होते हुए देख रहे हैं.”

पीएम मोदी ने कहा, “इस बजट में, ये भी ध्यान रखा गया है कि मध्यम वर्ग के टैक्सपेयर के हाथ में ज्यादा पैसे बचे. सरकार ने अब टैक्स की एक नई स्लैब का विकल्प दिया है. ये सरल भी है और इसमें टैक्स बचाने के लिए कुछ खास योजनाओं में ही Investment करने का दबाव भी नहीं है.”

उन्होंने कहा कि कुछ लोग राजनीति बदलने आए थे, उनका नकाब अब उतर चुका है. उनका असली रंग, रूप, और मकसद, उजागर हो गया है. लेकिन आपको याद होगा जब सर्जिकल स्ट्राइक हुई थी, तब इसी दिल्ली में देश की सेना, हमारे वीर जवानों को कठघरे में खड़ा कर दिया गया था.

पीएम मोदी ने कहा, “दिल्ली हो या देश का कोई दूसरा कोना, बिहार के लोग हर क्षेत्र में सर्वोत्तम करते मिलेंगे. लेकिन उनसे भी ऐसी नफरत हो रही है. बिहार और पूर्वांचल के लोगों के लिए ऐसी दुर्भावना देखकर, दर्द होता है दिल में.”

उन्होंने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश बाबू कल कह रहे थे कि पटना से आने वाली बसों को दिल्ली में आने की अनुमति देने से ही मना कर दिया गया है. बिहार के लोगों के लिए, पूर्वांचल के लोगों के लिए ये कैसा पूर्वाग्रह है, जो इस तरह के फैसले करवाता है?

पीएम मोदी ने कहा, “दिल्ली के केंद्र सरकार के अस्पतालों में गरीबों का 5 लाख रुपए तक का मुफ्त इलाज हो सकता है, लेकिन राज्य सरकार के अस्पतालों में नहीं. दिल्ली के गरीब और मध्यम वर्ग से ऐसी क्या दिक्कत है? क्या राजनीति, मानवता से भी बड़ी हो गई है?


उन्होंने कहा कि अफसोस है कि दिल्ली के लोगों के साथ स्वास्थ्य जैसे गंभीर विषय में भी राजनीति की गई है. दिल्ली में आयुष्मान भारत योजना को लागू ही नहीं होने दिया जा रहा है.

पीएम मोदी ने कहा, “दिल्ली और देश के अन्य शहरों में प्रदूषण की स्थिति से निपटने के लिए भी केंद्र सरकार गंभीरता से प्रयास कर रही है. इस साल के बजट में 4,400 करोड़ रुपए शहरों में प्रदूषण को कम करने के लिए रखे गए हैं.”

उन्होंने कहा कि ‘उद्योग के विस्तार का और रोजगार के नए अवसर बनाने का सीधा संबंध आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर से है. अगले 5 साल में 100 लाख करोड़ रुपए से अधिक का इंफ्रास्ट्रक्चर देश में बनाया जाएगा. इसमें हाईवे, एक्सप्रेसवे, वॉटरवे, मेट्रो रूट, नए एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं होंगी.

पीएम मोदी ने कहा कि GST ने व्यापारियों को अनेक तरह के टैक्सों के जाल से बचाया है. GST ने बहुत सारी चुंगियां और चेकपोस्ट खत्म कर दिए हैं. अब हरियाणा या UP सामान भेजना हो या वहां से मंगवाना हो, दिल्ली के व्यापारियों की दिक्कतें कम हुई हैं.

उन्होंने कहा, “GST की वजह से गरीब और मध्यम वर्ग के जरूरत की लगभग 99% चीजों पर पहले ही टैक्स कम हो गया है. पहले औसत GST रेट 14.4% था. अब इसे और कम करते हुए 11.8% पर ले आया गया है. इसकी वजह से गरीबों-मध्यम वर्ग के करीब 2 लाख करोड़ रुपये सालाना बच रहे हैं.”

पीएम मोदी ने कहा, “सीलमपुर हो, जामिया हो या फिर शाहीन बाग, बीते कई दिनों से सिजिटनशिप अमेंडमेंट बिल को लेकर प्रदर्शन हुए हैं. क्या ये प्रदर्शन सिर्फ एक संयोग हैं? नहीं. इसके पीछे राजनीति का एक ऐसा डिजायन है, जो राष्ट्र के सौहार्द को खंडित करने वाला है.”


उन्होंने कहा कि यही वो लोग हैं जो भारत के टुकड़े-टुकड़े करने की इच्छा रखने वालों को आज तक बचा रहे हैं. क्या दिल्ली के लोग ये भूल सकते हैं? इसकी वजह क्या थी? वोटबैंक की राजनीति, तुष्टिकरण की राजनीति.

पीएम मोदी ने कहा कि ‘लेकिन याद करिए, जब इन्हीं हमलों के गुनहगारों को दिल्ली पुलिस ने बाटला हाउस में मार गिराया, तो उसे फर्जी एनकाउंटर कहा गया था. यही वो लोग हैं जिन्होंने बाटला हाउस में आतंकियों को मारने पर दिल्ली पुलिस के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी.’

उन्होंने कहा कि एक समय था जब दिल्ली में आए दिन आतंकी हमलों की वजह से, बम धमाकों में निर्दोष लोग मारे जाते थे. देश के सुरक्षाबलों और दिल्ली के लोगों की सतर्कता से अब ये हमले होने रुक गए हैं.

ये भी पढ़ें-

स्वामी चिन्मयानंद को इलाहाबाद हाई कोर्ट से मिली जमानत, रेप केस में 5 महीने से थे जेल में बंद

“गांधी-अंग्रेजों के बीच थी मिलीभगत”, हेगड़े को बीजेपी ने फटकारा, कहा- तुरंत माफी मांगें

Delhi elections: सीएम अरविंद केजरीवाल के रोड शो में दिखाया गया काला झंडा

Related Posts