Shaheen Bagh Protest, शाहीन बाग: तीसरे दिन भी नहीं बनी बात, खाली हाथ लौटे वार्ताकार
Shaheen Bagh Protest, शाहीन बाग: तीसरे दिन भी नहीं बनी बात, खाली हाथ लौटे वार्ताकार

शाहीन बाग: तीसरे दिन भी नहीं बनी बात, खाली हाथ लौटे वार्ताकार

वार्ताकार संजय हेगड़े ने कविता 'छोड़ो कल की बातें' की लाइनें दोहराईं और कहा कि इस पर अमल किया जाए.
Shaheen Bagh Protest, शाहीन बाग: तीसरे दिन भी नहीं बनी बात, खाली हाथ लौटे वार्ताकार

दिल्ली के शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों से वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े और वकील साधना रामचंद्रन शुक्रवार को फिर से मुलाकात करने पहुंचे. ये वार्ताकार बीते तीन दिन से प्रदर्शनकारियों से बातचीत कर समस्या का हल निकालने में लगे हुए हैं. लेकिन तीसरे दिन भी कोई रास्ता नहीं निकला.

वार्ताकारों ने तीसरे दिन शुक्रवार को दिल्ली पुलिस को भी बातचीत में शामिल करने के लिए बुलाया. बातचीत के लिए दिल्ली पुलिस के थ्री स्टार अधिकारी पहुंचे. दो वार्ताकार और एक दिल्ली पुलिस के अधिकारी ने प्रदर्शनकारियों से बातचीत की.

पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को बैरिकेड लगाकर सुरक्षा देने की बात कही. हालांकि शर्त रखी कि बदले में बगल की सड़क को खाली कर दिया जाए. वहीं, प्रदर्शनकारियों ने पुलिस से लिखित में सुरक्षा की मांग की.

महिलाओं ने बिरियानी और 500 रुपये वाली बात को वार्ताकारों के सामने दोहराया. महिला प्रदर्शनकारी ने बंद पड़ी दुकानों को खोलने पर किसी तरह का ऐतराज न होने की बात कही. साथ ही सुरक्षा देने की भी मांग की.

एक प्रदर्शनकारी महिला ने मांग की अगर सुरक्षा में चूक हुई तो कमिश्नर, डीसीपी, एसएचओ और कांस्टेबल को बर्खास्त कर दिया जाए. होम मिनिस्टर एनआरसी अभी नहीं की बजाए कभी नहीं कह दें तो दोनों तरफ की सड़क खोल दी जाएगी.

संजय हेगड़े ने कविता ‘छोड़ो कल की बातें’ की लाइनें दोहराईं और कहा कि इस पर अमल किया जाए.

साधना रामचंद्रन ने कहा, “कल हम सारे बंद पड़े रास्ते प्रदर्शनकारियों के साथ देखने गए जिसमें कही हुई कुछ बातें सही पाई गईं. हमने पुलिस से फरीदाबाद के रास्ते को खोलने को पहल की और रास्ता खुल गया. लेकिन फिर बंद हुआ, इससे तकलीफ हुई. हम इस बात को सुप्रीम कोर्ट को बताएगें.

साधना ने कहा कि हम इस बात को कभी नहीं मानेगें कि आपने बैरिकेड लगाकर रास्ता बंद किया है. आप बंद किए होगें तो भी नहीं मानेंगे.

एक महिला प्रदर्शनकारी ने जामिया में गोलीबारी लाठीचार्ज के लिए पुलिस को जिम्मेदार ठहराते हुए सवाल खड़े किए. इस बीच पुलिस को लेकर नारेबाजी भी हुई.

ये भी पढ़ें-

राम मंदिर का क्यों नहीं होगा शिलान्यास, महंत नृत्य गोपाल दास ने बताई वजह

महाशिवरात्रि : सदियों पुराने शिवलिंग की कई पीढ़ियों से देखभाल कर रहा मुस्लिम परिवार

‘वो हाथ से निकल चुकी है’, पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाने वाली लड़की के पिता का छलका दर्द

Shaheen Bagh Protest, शाहीन बाग: तीसरे दिन भी नहीं बनी बात, खाली हाथ लौटे वार्ताकार
Shaheen Bagh Protest, शाहीन बाग: तीसरे दिन भी नहीं बनी बात, खाली हाथ लौटे वार्ताकार

Related Posts

Shaheen Bagh Protest, शाहीन बाग: तीसरे दिन भी नहीं बनी बात, खाली हाथ लौटे वार्ताकार
Shaheen Bagh Protest, शाहीन बाग: तीसरे दिन भी नहीं बनी बात, खाली हाथ लौटे वार्ताकार