उमर अब्‍दुल्‍ला की हिरासत को चुनौती देने वाली सारा पायलट की याचिका पर 14 को सुनवाई

उमर अब्‍दुल्ला पिछले कई महीनों से हिरासत में हैं. सारा पायलट ने अपने भाई उमर अब्दुल्ला को पांच फरवरी को पब्लिक सेफ्टी एक्ट PSA के तहत रखने के आदेश को असंवैधानिक बताया है. सारा ने कहा कि ये उनके भाई के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है.
Sara Abdullah Pilot on Ex-J&K CM Omar Abdullah PSA, उमर अब्‍दुल्‍ला की हिरासत को चुनौती देने वाली सारा पायलट की याचिका पर 14 को सुनवाई

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला की हिरासत को चुनौती देने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट अब शुक्रवार को सुनवाई करेगा. उनकी बहन सारा पायलट ने जेएंडके पब्लिक सेफ्टी एक्ट, 1978 के तहत अपने भाई की नजरबंदी को चुनौती देते हुए सुप्रीम में याचिका दायर की है.

सारा पायलट की याचिका को सुनवाई के लिए जस्टिस एन वी रमण, जस्टिस शांतानागौडर और जस्टिस संजीव खन्ना की पीठ के सामने रखा गया था. जस्टिस शांतानागौडर ने सुनवाई के शुरुआत में कहा, “मैं मामले में शामिल नहीं हो रहा हूं. इस मामले की सुनवाई अब एक अलग बेंच करेगी.”

 


सारा पायलट ने याचिका में बताया है कि उनके भाई जब रिहा होने वाले थे तो अचानक से उन्हें पीएसए के अंतर्गत फिर से हिरासत में रखे जाने का पता चलता है. उमर अब्‍दुल्ला पिछले कई महीनों से हिरासत में हैं. सारा पायलट ने अपने भाई उमर अब्दुल्ला को पांच फरवरी को पब्लिक सेफ्टी एक्ट PSA के तहत रखने के आदेश को असंवैधानिक बताया है. सारा ने कहा कि ये उनके भाई के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है.

सारा और उमर अब्दुल्ला के पिता फारूक अब्दुल्ला 5 अगस्त 2019 से ही पीएसए के अंतर्गत नजरबंद हैं. जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला पिछले साल अगस्त में अनुच्छेद 370 को खत्म किए जाने के बाद से ही श्रीनगर के हरि निवास में हिरासत में हैं. उमर अब्दुल्ला के खिलाफ 6 फरवरी 2020 को पीएसए के तहत मामला दर्ज किया गया, जब 6 महीने हिरासत में रहने के बाद वह रिहा होने वाले थे.

ये भी पढ़ें-

गिरिराज सिंह के फिर बिगड़े बोल- ‘देवबंद आतंक की गंगोत्री’, BJP ने किया बयान से किनारा

फिरोजाबाद में नाबालिग रेप पीड़िता के पिता की गोली मार कर हत्या, एसएसपी सस्पेंड

Related Posts