सरकारी कार्यक्रम में भीड़ नही जुटने से नाराज हुईं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी

स्मृति इरानी ने कहा कि भाजपा सत्ता में नहीं है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं की मौजूदा राज्य सरकार की ऐसे कार्यक्रम को लेकर कोई जिम्मेदारी नहीं है.

जयपुर: फैक्ट्री कारखानों के कैमिकल युक्त पानी को परिशोधित करने के ट्रीटमेंट प्लांट का उद्घाटन करने आई केन्द्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति इरानी नाराज हो गईं. 159 करोड़ के बड़े प्रोजेक्ट का साधारण तरीके से उद्घाटन होने और स्थानीय उद्योगपतियों व अपेक्षित जन भागीदारी नहीं होने से इरानी इतनी नाराज हुईं कि मंच से ही सांसद रामचरण बोहरा और विधायक अशोक लाहोटी को माफी मांगनी पड़ी. इस बीच दोनों ही स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने जल्द बड़ा कार्यक्रम आयोजित करने का विश्वास दिलाया, जिसमें 50 हजार लोगों की मौजूदगी होगी.

इस बीच केन्द्रीय मंत्री इरानी ने भी अपने भाषण को संक्षिप्त कर मंच से ही नाराजगी जता दी. चुटकी लेने से नहीं चूकीं और कहा कि आपने मुझे बड़े कार्यक्रम में बुलाने के लिए कहा है, इसलिए लम्बा भाषण उसी कार्यक्रम के लिए आरक्षित रख रही हूं. इसके बाद प्लांट का उद्घाटन किया और फिर वहां से निकल गईं. एसोसिएशन के पदाधिकारी नाश्ते के लिए बुलाते रहे, लेकिन आगे कार्यक्रम में देरी होने का हवाला दे रवाना हो गईं. वस्त्र मंत्रालय के इस कार्यक्रम की व्यवस्था सांगानेर एनवायरो प्रोजेक्ट डवपलमेेंट और सांगानेर कपड़ा रंगाई-छपाई एसोसिएशन स्तर पर की गई थी. उद्घाटन पट्टिका पर मुख्यमंत्री, उद्योग मंत्री, पर्यावरण मंत्री का नाम भी अंकित था.

सूत्रों के मुताबिक स्मृति इरानी ने दोनों जनप्रतिनिधि से कहा कि भाजपा सत्ता में नहीं है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं की मौजूदा राज्य सरकार की ऐसे कार्यक्रम को लेकर कोई जिम्मेदारी नहीं है.

300 साल पुरानी विरासत को सहेजने का ड्रीम प्रोजेक्ट
स्मृति इरानी ने कहा कि 300 वर्ष पुरानी सांगानेरी प्रिंट कपड़ा विरासत को बचाने के लिए यह ड्रीम प्रोजेक्ट है. इससे प्रत्यक्ष—अप्रत्यक्ष तौर पर 4 लाख लोगों की रोजी—रोटी जुड़ी हुई है. इनके लिए पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे व सांसद रामचरण बोहरा खुद दिल्ली आए और इस प्रोजेक्ट को पास करवाया. इसलिए उद्योगपतियों और जनता को इसकी भूमिका समझनी चाहिए. अभी यहां संचालित फैक्ट्रियां का जहरीला पानी नालों में बहाया जाता रहा है, जिसका उपयोग कई लोग सिंचाई तक मेंं करते रहे हैं.