क्यों पाकिस्तान में उठी इमरान को नोबेल पुरस्कार देने की मांग?

पाकिस्तान में अचानक प्रधानमंत्री इमरान खान को नोबेल शांति पुरस्कार दिलाने की मांग तेज़ हो गई है. पाकिस्तानी नागरिकों ने इसके लिए एक ऑनलाइन कैंपेन शुरू किया है. और अब तक 1,00000 से ज्यादा लोग इस कैंपेन पर अपनी मुहर लगा चुके हैं.
, क्यों पाकिस्तान में उठी इमरान को नोबेल पुरस्कार देने की मांग?

नई दिल्ली: पाकिस्तान में अचानक प्रधानमंत्री इमरान खान को नोबेल शांति पुरस्कार दिलाने की मांग तेज़ हो गई है. पाकिस्तानी नागरिकों ने इसके लिए एक ऑनलाइन कैंपेन शुरू किया है. और अब तक 50,000 से ज्यादा लोग इस कैंपेन पर अपनी मुहर लगा चुके हैं.

, क्यों पाकिस्तान में उठी इमरान को नोबेल पुरस्कार देने की मांग?
अब तक 1,00000 से ज्यादा लोग इस कैंपेन पर अपनी मुहर लगा चुके हैं.

एक मुहिम पाकिस्तान के लोगों ने सोशल मीडिया पर छेड़ी है. ट्विटर पर इस वक्त ये कैंपेन #NobelPeacePrizeForImranKhan और #NobelPrizeForImranKhan के नाम से ट्रेंड कर रहा है. इमरान खान शांति के दूत कैसे बन गएपाकिस्तान के पीएम ने आखिर ऐसा क्या कर दिया कि उन्हें नोबेल शांति पुरस्कार से नवाजा जाए?

सोशल मीडिया और ऑनलाइन पीटिशन के जरिए पाकिस्तान में ये मुहिम भारतीय वायुसेना के जांबाज पायलट विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान की रिहाई के बाद शुरू हुई है. अभिनंदन की घर वापसी से जहां हिंदुस्तान में लोग जश्न मना रहे हैं. पाकिस्तान की आवाम ने प्रधानमंत्री इमरान खान को शांति का मसीहा बना दिया. दरअसल आतंक का अड्डा बन चुका पाकिस्तान इस मौके को भुना कर अपनी छवि सुधारना चाहता है. दुनिया भर में आतंक को पनाह देने के लिए बदनाम पाकिस्तान इमरान खान को अमन का मसीहा साबित कर अपना नापाक इतिहास बदलना चाहता है.


देखिए ट्वविटर छिड़े इस कैंपने में लोग कैसे पाकिस्तान की जनता इमरान खान की तारीफ में कसीदे पढ़ रहे हैं.

 

Related Posts