धोनी की टीम के इस खिलाड़ी ने खो दी होटल रूम की चाबी, 6 दिन के लिए क्वारंटीन, पैसे भी कटे: रिपोर्ट

आईपीएल 2020 (IPL 2020) में एमएस धोनी (MS Dhoni) की टीम चेन्नई सुपरकिंग्स (Chennai Superkings) अंक तालिका में आठवें यानी आखिरी स्थान पर है. टीम अपने शुरुआती तीन में से दो मैच हार चुकी है.

ipl 2020 CSK Pacer KM Asif the First Player to Breach Bio Secure Bubble ms dhoni chennai superkings
धोनी की अगुआई में चेन्नई सुपरकिंग्स सबसे ज्यादा 8 बार आईपीएल फाइनल में पहुंची है.

नई दिल्ली. इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) के 13वें सीजन की शुरुआत धमाकेदार रही है और प्रशंसकों को लगातार रोमांचक मुकाबले देखने को मिल रहे हैं. हालांकि इस बार का टूर्नामेंट कोरोना वायरस (Coronavirus) के कहर के बीच यूएई में खेला जा रहा है. ये अलग बात है कि खिलाड़ियों को इस जानलेवा महामारी के संक्रमण में आने से बचाने के लिए बीसीसीआई ने खासे कड़े उपाय किए हैं. उन्हीं में से एक बायो सिक्योर बबल प्रोटोकॉल (Bio Secure Bubble Protocol) भी है. हालांकि इस तरह की खबरें सामने आ रहीं हैं कि महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) की अगुआई वाली टीम चेन्नई सुपरकिंग्स (Chennai Superkings) के एक खिलाड़ी ने बायो सिक्योर बबल प्रोटोकॉल को तोड़ दिया है.

बायो सिक्योर बबल प्रोटोकॉल तोड़ने वाले पहले खिलाड़ी बने केएम आसिफ
इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, चेन्नई सुपरकिंग्स के तेज गेंदबाज केएम आसिफ (KM Asif) बायो सिक्योर बबल प्रोटोकॉल तोड़ने वाले इंडियन प्रीमियर लीग के पहले खिलाड़ी बन गए हैं. इस गलती के लिए नियम के तहत उन्हें छह दिन के लिए क्वारंटीन भी किया गया था. हालांकि क्वारंटीन की अवधि पूरी करने के बाद वह दोबारा टीम के ट्रेनिंग सत्र से जुड़ गए हैं.

जानबूझकर नहीं की गई थी गलती
दरअसल, चेन्नई के तेज गेंदबाज केएम आसिफ से उनके होटल के कमरे की चाबी गुम हो गई थी. इसके बाद वह रिसेप्शन से दूसरी चाबी लेने गए. बता दें कि रिसेप्शन एरिया टीम के लिए निर्धारित किए गए बायो सिक्योर बबल प्रोटोकॉल के दायरे में नहीं आता है, इसलिए केएम आसिफ को प्रोटोकॉल तोड़ने का दोषी पाया गया. रिपोर्ट के अनुसार, आईपीएल सूत्र ने बताया है कि यह जानबूझकर की गई गलती नहीं थी, लेकिन नियमों का पालन करना जरूरी था. केएम आसिफ को छह दिन के लिए क्वारंटीन किया गया था, हालांकि अब वह टीम से जुड़ गए हैं. केरल के तेज गेंदबाज केएम आसिफ ने चेन्नई के लिए आईपीएल में दो मैच खेले हैं. दोनों मैच उन्होंने साल 2018 में खेले थे.

टीम प्रबंधन ने किया इनकार
हालांकि चेन्नई सुपरकिंग्स टीम के सीईओ के. विश्वनाथन ने एएनआई से बातचीत में केएम आसिफ द्वारा बायो सिक्योर बबल प्रोटोकाल का उल्लंघन करने की खबर को खारिज कर दिया है. उन्होंने कहा कि ये सच है कि आसिफ के रूम की चाबी खो गई थी, लेकिन उन्होंने जनरल स्टाफ से इसे बदलने की मांग नहीं की, बल्कि वह निर्धारित डेस्क के पास गए थे. इस मामले में तथ्यों को अलग नजरिये से देख गया. टीम बायो बबल प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन कर रही है.

यह भी पढ़ें: IPL 2020: सैमसन ने सचिन वाले ‘स्टाइल’ में पकड़ा कैच, KKR के खिलाफ 28 साल पुरानी याद ताजा

ऐसे हैं बायो सिक्योर बबल प्रोटोकॉल तोड़ने के नियम
पहली बार कोई खिलाड़ी बायो सिक्योर बबल प्रोटोकॉल तोड़ता है तो उसे छह दिन के लिए बिना पे के क्वारंटीन कर दिया जाता है. दूसरी बार नियम तोड़ने पर खिलाड़ी को दोबारा क्वारंटीन किया जाता है और उसे एक मैच के लिए निलंबित कर दिया जाता है. वहीं तीसरी बार नियम तोड़ने पर खिलाड़ी को पूरे टूर्नामेंट से बाहर कर दिया जाता है और टीम को उसका विकल्प भी नहीं दिया जाता.

अंक तालिका में आठवें स्थान पर है धोनी की टीम
महेंद्र सिंह धोनी की अगुआई वाली टीम चेन्नई सुपरकिंग्स फिलहाल टूर्नामेंट की शुरुआत अपेक्षाओं के अनुसार नहीं कर सकी है. टीम ने अब तक तीन मैच खेले हैं और दो में उसे हार का सामना करना पड़ा है. यही वजह है कि इस लचर प्रदर्शन के चलते टीम अंक तालिका में आठवें यानी आखिरी स्थान पर बनी हुई है. टीम को अगला मैच 2 अक्टूबर यानी शुक्रवार को सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ खेलना है.

(IPL 2020 की सबसे खास कवरेज मिलेगी TV9 भारतवर्ष पर. देखिए हर रोज: ‘रेगिस्तान में महासंग्राम)

Related Posts