IPL 2020: अंपायर के एक गलत फैसले ने KXIP से छीनी जीत, शॉर्ट रन पर छिड़ा विवाद

लीग के 13वें सीजन के दूसरे ही मैच ने रोमांच को चरम पर पहुंचा दिया. दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) और किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) के बीच हुए मैच का फैसला सुपर ओवर से हुआ.

इंडियन प्रीमियर लीग ( IPL) के नए सीजन की शानदार शुरुआत हो चुकी है. लीग के 13वें सीजन के दूसरे ही मैच ने रोमांच को चरम पर पहुंचा दिया. दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) और किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) के बीच हुए मैच का फैसला सुपर ओवर से हुआ, जिसमें दिल्ली ने पंजाब को आसानी से हरा दिया. हालांकि, इस मैच के सुपर ओवर में पहुंचने की वजह एक अंपायरिंग फैसला बना, जिस पर अब सवाल उठने लगे हैं. पूर्व भारतीय ओपनर वीरेंद्र सहवाग समेत कई क्रिकेट फैंस इस फैसले पर आपत्ति जता चुके हैं और इसे दिल्ली की जीत का कारण बता रहे हैं.

एक तरफ जहां IPL में रोमांच का तड़का रहता है, वहीं हर सीजन में छोटी-मोटे विवाद भी देखे जाते रहे हैं. कई बार ये विवाद अंपायरों की गलतियों से होते हैं और इस सीजन में इसकी शुरुआत भी हो गई. दिल्ली और पंजाब के मैच में मैदानी अंपायर नितिन मेनन की एक गलती फिलहाल सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी हुई है.

क्या है पूरा मामला

दरअसल, दिल्ली की ओर से मिले 158 रन के लक्ष्य के जवाब में पंजाब की टीम जब मुश्किल हालात में थी, तब मयंक अग्रवाल एक शानदार पारी के जरिए अपनी टीम को लक्ष्य के करीब ले जा रहे थे. पंजाब को 10 गेंदों में 21 रन की जरूरत थी. कगिसो रबाडा की गेंद पर मयंक ने मिड ऑन की ओर गेंद को ड्राइव किया और तेजी से 2 रन के लिए दौड़ पड़े. मयंक और क्रिस जॉर्डन ने आसानी से 2 रन पूरे कर लिए.

यहीं पर मैच का रुख बदल गया. जब जॉर्डन पहले रन के लिए स्ट्राइकर एंड पर पहुंचे, तो स्क्वायर लेग अंपायर नितिन मेनन ने इसे शॉर्ट रन करार दे दिया. इसके चलते पंजाब को 2 के बजाए सिर्फ एक ही रन मिला. वहीं, टीवी रिप्ले में साफ दिखा कि जॉर्डन ने क्रीज के पार बैट को रखा था.

आखिरकार जब 20वें ओवर की आखिरी दो गेंदों पर पंजाब ने मयंक और क्रिस जॉर्डन का विकेट खोया, तो स्कोर टाई हो गया और फैसला सुपर ओवर से हुआ. सुपर ओवर में कगिसो रबाडा के सामने पंजाब फ्लॉप रही और दिल्ली ने मैच जीत लिया. मैच के बाद इस शॉर्ट रन पर सोशल मीडिया में बवाल मचा हुआ है.

सहवाग का तंज

एक वक्त KXIP के कप्तान रहे वीरेंद्र सहवाग ने ट्विटर पर अपनी नाखुशी जाहिर की. सहवाग ने ट्वीट कर तंज कसते हुए लिखा, “मैं मैन ऑफ द मैच की पसंद से सहमत नहीं हूं. जिस अंपायर ने शॉर्ट रन दिया उन्हें मैन ऑफ द मैच होना चाहिए था. शॉर्ट रन नहीं था और यही अंतर साबित हुआ.”

सहवाग के अलावा चेन्नई सुपर किंग्स के पूर्व बल्लेबाज सुब्रमण्यम बद्रीनाथ ने भी इस पर सवाल उठाया. बद्रीनाथ ने लिखा- “अंपायरिंग एक थैंकलैस काम है, लेकिन जब टेक्नोलॉजी उपलब्ध होने के बावजूद भी उसका उपयोग न किया जाए तो यह बेवकूफी है. मैच को बदलने वाला पल.”

सोशल मीडिया यूजर्स ने भी अंपायरिंग के स्तर पर सवाल खड़ा किया. यूजर्स ने लिखा कि जब थर्ड अंपायर मौजूद हैं, तो उनकी मदद ली जानी चाहिए. ऐसा पहली बार नहीं है, जब IPL के दौरान अंपायरों पर सवाल खड़ा किया गया है. पिछले साल मुंबई इंडियंस और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बीच भी आखिरी गेंद पर नो बॉल न दिए जाने पर विवाद हुआ था.

(IPL 2020 की सबसे खास कवरेज मिलेगी TV9 भारतवर्ष पर. देखिए हर रोज: ‘रेगिस्तान में महासंग्राम’)

Related Posts