कोहली से सीख रहे पडिक्कल, तो स्टेन दे रहे सैनी को ज्ञान- युवाओं को ऐसे तैयार कर रही RCB

IPL 2020 में अभी तक RCB के युवा खिलाड़ियों ने काफी प्रभावित किया है और उसमें पर्दे के पीछे चल रहे ऐसे प्रोग्रामों का खास योगदान है.

(Photo: Twitter/RCB)

इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) न सिर्फ अपने रोमांचक मुकाबलों के कारण दुनियाभर में मशहूर है, बल्कि इस लीग के जरिए नए और अनजान चेहरे भी क्रिकेट की दुनिया में अपनी पहचान बनाने में सफल रहे हैं. कई युवा क्रिकेटरों को दुनियाभर के क्रिकेटरों के साथ न सिर्फ खेलने का मौका मिलता है, बल्कि उनसे सीखने को भी मिलता है. हर टीम में कई युवा खिलाड़ी होते हैं और उनके खेल और व्यक्तित्व को निखारने के लिए फ्रेंचाइजी अलग-अलग तरह के प्रोग्राम भी IPL सीजन के दौरान चलाती हैं.

लीग की प्रमुख फ्रेंचाइजी रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (Royal Challengers Bangalore) भी इन दिनों ऐसा ही एक खास ‘मेंटॉरशिप प्रोग्राम’ (Mentorship Program) चला रही है, जिसकी मदद से टीम के युवा खिलाड़ी सीनियर खिलाड़ियों के साथ मिलकर क्रिकेट के साथ-साथ जिंदगी के अहम पहलुओं के बारे में सीख रहे हैं.

ये भी पढ़ेंः क्या एमएस धोनी के साथ बिगड़ गए हैं सुरेश रैना के रिश्ते? रैना के इस कदम से मिला जवाब!

जूनियर खिलाड़ियों के साथ वक्त बिता रहे सीनियर

RCB ने अपने ट्विटर हैंडल में एक वीडियो पोस्ट किया जिसमें फ्रेंचाइजी के डाइरेक्टर ऑफ क्रिकेट माइक हेसन (Mike Hesson) ने इस ‘मेंटॉरशिप प्रोग्राम’ के बारे में बताया. हेसन ने बताया कि टीम के कोच साइमन कैटिच (Simon Cattich) इस प्रोग्राम को शामिल करना चाहते थे.

इस प्रोग्राम के उद्देश्य के बारे में बताते हुए हेसन ने कहा, “इस तरह के प्रोग्राम कई स्पोर्ट में होते रहते हैं. जब आपके पास ऐसे खिलाड़ी होते हैं, जो (अनुभव) बांटने को तैयार हैं, तो आपके पास उसे हासिल करने का मौका होता है. कई खिलाड़ी युवाओं के साथ अपना अनुभव बांटते हैं और कई बार सीनियर खिलाड़ी अपने युवाओं से भी कुछ नए आइडिया सीखते हैं.”

हेसन ने विराट कोहली (Virat Kohli) और डेल स्टेन (Dale Steyn) का उदाहरण देते हुए बताया, “नवदीप सैनी (Navdeep Saini) को डेल स्टेन के साथ रखा गया है. स्टेन ने क्रिकेट में तेज गेंदबाजी को लेकर सब कुछ किया है और खेल को अच्छे से समझते भी हैं. नवदीप सैनी बेहद प्रतिभाशाली है और तेज गेंदबाजी करना चाहता है, इसलिए इससे बेहतर क्या हो सकता है कि दोनों साथ बैठे हैं और तेज गेंदबाजी के बारे में बात करें.”

हेसन ने इसी तरह बताया कि युवा बल्लेबाज देवदत्त पडिक्कल (Devdutt Padikkal) को विराट कोहली के साथ रखा गया है. हेसन ने कहा कि एक युवा खिलाड़ी के लिए उनसे बेहतर मेंटॉर कोई नहीं हो सकता.

मैदान से बाहर बॉन्डिंग से मिलती है मदद

हेसन ने  खिलाड़ियों के पेयर बनाने के बारे में बताया, “हम ये देखते हैं कि कौन किसके साथ रह सकता है और प्रैक्टिस के बाद कौन एक-दूसरे के साथ समय बिता सकत है, एक दूसरे को समझ सकता है और क्रिकेट के बारे में बात कर सकता है.”

माइक हेसन के मुताबिक, इस तरह के प्रोग्रामों का फायदा ये होता है कि जब वो आपस में मैदान से बाहर एक दूसरे के साथ अच्छे से बॉन्डिंग कर पाते हैं, तो मैदान में मैच के दौरान, दबाव वाली परिस्थितियों में एक टीम के तौर पर खिलाड़ी अच्छे से काम कर पाते हैं.

ये भी पढ़ेंः IPL 2020: KXIP के खिलाफ पहले ही ओवर में रोहित शर्मा ने रच दिया इतिहास, सिर्फ 2 बल्लेबाजों ने किया ऐसा

(IPL 2020 की सबसे खास कवरेज मिलेगी TV9 भारतवर्ष पर. देखिए हर रोज: ‘रेगिस्तान में महासंग्राम)

Related Posts