कांग्रेस के गौरव वल्लभ सीएम के खिलाफ लड़ेंगे चुनाव, ‘एक ट्रिलियन में कितने जीरो’ वाले सवाल से हुए थे चर्चित

प्रोफेसर गौरव वल्लभ एक्सएलआरआई के प्रोफेसर हैं और कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता भी.

कांग्रेस ने अपने राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव वल्लभ को झारखंड विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री रघुबर दास के खिलाफ उम्मीदवार बनाया है. पार्टी की ओर से शनिवार रात दो उम्मीदवारों की सूची जारी की गई जिसमें वल्लभ का नाम प्रमुख है जिन्हें जमशेदपुर-पूर्व से उम्मीदवार बनाया गया है. इस विधानसभा सीट से मुख्यमंत्री रघुबर दास वर्तमान में विधायक हैं.

प्रोफेसर हैं गौरव वल्लभ

गौरव वल्लभ जेवियर लेबर रिसर्च इंस्टिट्यूट (एक्सएलआरआई) के प्रोफेसर हैं और कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता भी. झारखंड के कई सीनियर नेताओं ने गौरव को प्रत्याशी बनाने की मांग केंद्रीय नेतृत्व से की थी. गौरव जोधपुर के पीपाड़ गांव के रहने वाले हैं. उनकी स्कूली एजुकेशन पाली जिले से पूरी हुई है. वह लंबे समय से कांग्रेस के प्रवक्ता के तौर पर सेवाएं दे रहे हैं.

टीवी चैनल पर पूछ लिया था ये सवाल

गौरव वही व्यक्ति हैं, जिन्होंने बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा से एक टीवी चैनल पर पूछ लिया था की ट्रिलियन में कितने जीरो होते हैं और संबित तत्काल इसका जवाब नहीं दे सके थे. यह वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था. कांग्रेस ने गौरव बल्लभ की योग्यता को देखते हुए उन्हें चुनावी मैदान में उतारा है.

‘चुनौती को स्वीकार करता हूं’

मुख्यमंत्री के खिलाफ उम्मीदवार बनाए जाने के बारे में पूछे जाने पर वल्लभ ने कहा, ”मैं इस चुनौती को स्वीकार करता हूं. इस क्षेत्र और झारखंड के लोगों के साथ पिछले पांच वर्षों में सिर्फ धोखा हुआ है. जनता रघुबर दास और बीजेपी को सबक सिखाने के लिए तैयार है.”

31 सीटों पर चुनाव लड़ रही कांग्रेस 

झारखंड में कांग्रेस 81 सदस्यीय विधानसभा के चुनाव में झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है. वह 31 सीटों पर लड़ रही है. उधर, कांग्रेस ने कर्नाटक में होने वाले विधानसभा उपचुनाव के लिए शनिवार को छह उम्मीदवारों की भी घोषणा की.

ये भी पढ़ें-

‘हमें न सिखाएं स्वाभिमान, बालासाहेब को किया वादा पूरा होगा’, फडणवीस के ट्वीट पर राउत की दो टूक

दिल्ली में लगे सांसद गौतम गंभीर के लापता होने के पोस्टर, लिखा- आखिरी बार इंदौर में जलेबी खाते दिखे थे