ऋचा को नहीं बांटनी पड़ेंगी कुरान, रांची कोर्ट ने वापस लिया आदेश

ऋचा भारती के खिलाफ कथित तौर पर सांप्रदायिक पोस्ट करने को लेकर पिथोरिया पुलिस स्टेशन में एक मामला दर्ज कराया गया था.

रांची: झारखंड की राजधानी में एक कोर्ट ने 19 वर्षीय एक लड़की को फेसबुक पर कथित तौर पर सांप्रदायिक पोस्ट करने के लिए कुरान की पांच कॉपियां बांटने की सजा सुनाई थी, जिसके बाद कोर्ट के इस फैसले को लेकर कई लोगों ने आपत्ति जताई थी. कोर्ट ने अपने फैसले को वापस ले लिया है, अब ऋचा को कुरान की 5 प्रतियां नहीं बांटनी पड़ेंगी.

लड़की का नाम ऋचा भारती है, जिसके खिलाफ कथित तौर पर सांप्रदायिक पोस्ट करने को लेकर पिथोरिया पुलिस स्टेशन में एक मामला दर्ज कराया गया था. ऋचा भारती झारखंड कोर्ट के इस फैसले से खुश नहीं थी और उन्होंने इसके खिलाफ हाई कोर्ट जाने की बात कही थी.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस मामले पर बात करते हुए ऋचा भारती ने कहा, “मैंने बस एक फेसबुक पोस्ट शेयर किया था और जिस व्यक्ति ने इसे पोस्ट किया सबसे पहले उसे गिरफ्तार किया जाना चाहिए था. कोर्ट के ऑर्डर के खिलाफ मैं हाई कोर्ट में अपील करूंगी. आज मुझसे कुरान बांटने के लिए कहा गया है और कल मुझे इस्लाम स्वीकार करने के लिए कह दिया जाएगा.”

ऋचा भारती पर मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था. जिसके बाद कोर्ट में न्यायिक मजिस्ट्रेट मनीष सिंह ने उसे जमानत देते हुए अंजुमन इस्लामिया समेत पांच अन्य संस्थानों को कुरान बांटने की सजा सुनाई थी. ऋचा के वकील राम प्रवेश सिंह का कहना है कि अदालत ने उसे सशर्त जमानत दी.

ये भी पढ़ें- 

अगर बेटी ने की भागकर शादी तो पापा को भरना होगा जुर्माना

शिवसेना नेता ने संसद में सुनाया आयुर्वेदिक मुर्गी और अंडे का किस्सा, कहा- शाकाहारी है यह भोजन