बिहार-यूपी-असम में बाढ़ का कहर तो झारखंड में भयानक सूखा, पानी के लिए हाड़-तोड़ मेहनत कर रहे किसान

अगले दो दिनों में बारिश नहीं हुई या किसान किसी भी तरह पानी धान के बिचड़ा तक नहीं पहुंचा पाते तो उनकी स्थिति भयावाह हो सकती है.

रांची: झारखंड के पूर्वी सिंहभूम के डुमरिया प्रखंड के किसान इन दिनों कुदाल और फावड़ा लेकर नदी नाले की खाक छान रहे हैं. किसान अपने खेतों में पानी पहुंचाने के लिये वो हर संभव प्रयास कर रहे हैं कि किसी भी तरह पानी उनके खेतों तक पहुंच सके. डुमरिया प्रखंड के काटाशोल गांव के दर्जनों ग्रामीण काटाशोल नाला से पानी अपने खेतों तक पहुंचाने का काम कर रहे हैं.

चेक डैम की मरम्मत में लगे किसान
नाला से पानी खेत तक पहुंचाने के लिये किसान हर दिन कड़ी मेहनत कर रहे हैं. हर दिन दर्जनों किसान समूह बनाकर नाला में बनायी गयी पुरानी और जर्जर चेक को को मरम्मत करने में लगे हैं, ताकि नाला का पानी सिंचाई नाले के माध्यम से उनके खेतों तक पहुंचे.

आपको बता दें कि काटाशोल नाला पर जिस जगह जर्जर चेक डैम बनी है, उससे करीबन 12 सौ एकड़ जमीन पर सिचाई नाला के माध्यम से पानी पहुंचता है. किसान हर साल जर्जर चेकडेम का मरम्मत करते हैं. चेक डैम की हालत यह है कि पानी का जमाव डैम में नहीं होता है. पानी का रिसाव होने के कारण डैम का पानी सिंचाई नाला तक नहीं पहुंच पाता, जिससे किसानों को खेतों में पानी नहीं मिलता है.

farmer, बिहार-यूपी-असम में बाढ़ का कहर तो झारखंड में भयानक सूखा, पानी के लिए हाड़-तोड़ मेहनत कर रहे किसान

बारिश नहीं हुई तो बढ़ जाएगी दिक्कतें
बारिश नहीं होने पर किसानों के खेतों में लगाये गये धान का बिचड़ा अब मुरझाने लगा है. अगर एक दो दिन के अदंर खेत में पानी नहीं पहुंचा तो धान का बिचड़ा मर सकता है. अबतक किसानों के खेत खाली पड़े हैं. कुछ जगहों पर जहां पानी आसपास है वैसी जगहों पर किसान अपनी मेहनत कर धान का बिचड़ा बचाने में लगे हैं. अगर दो दिनों में बारिश नहीं हुई या किसान किसी भी तरह पानी धान के बिचड़ा तक नहीं पहुंचा पाते तो किसानों की स्थिति भयावाह हो सकती है. फिलहाल किसान अपने भरोसे ही खेतों में पानी पहुंचाने में लगे हैं.

किसानों ने कहा कि हर साल बारिश होने के पहले और बरिश नहीं होने पर भी वे काटाशोल नाला का मरम्मत करते हैं. इसी नाला पर करीबन 2000 किसान निर्भर हैं. सिंचाई का साधन सिर्फ यह नाला ही है. किसनों ने बताया कि आठ से दस गांव के किसानों को पानी का लाभ मिलता है. जब भी मरम्मत करनी होती है तब पूरे गांव के लोग एक साथ मिलकर सिंचाई नाला की मरम्मत करते हैं. चेक डैम बनाया है लेकिन कोई काम नहीं करता है.

ये भी पढ़ें-

Chandrayaan-2 की लॉन्चिंग की नई डेट आई सामने, ISRO ने ठीक कर ली खामी

गरीब रथ ट्रेन को जल्द ही बंद कर सकती है केंद्र सरकार, जानिए क्या है वजह?

कुलभूषण जाधव मामले में जिस सबूत पर पाकिस्तान ICJ में ठोक रहा था ताल, उल्टी पड़ गई वो चाल