पहली बार सामने आईं सूर्य की सतह की तस्वीरें, गुड़ की चिक्की जैसा दिखा नजारा

टेलिस्कोप ने एक वीडियो भी रिकॉर्ड किया है जिसमें देखा जा सकता है कि सूर्य की सतह में हर 14 सेकेंड में उथल-पुथल होती है.
Sun's turbulent surface, पहली बार सामने आईं सूर्य की सतह की तस्वीरें, गुड़ की चिक्की जैसा दिखा नजारा

हवाई द्वीप के नए ब्रांड डेनियल के इनोये सोलर टेलिस्कोप ने सूर्य की तस्वीरें जारी की हैं. ये बार है जब पहली बार सूर्य की सतही तस्वीरें सामने आई हैं, इन तस्वीरों में सूर्य की सतह गुड़ की चिक्की (गुड़ पट्टी) की तरह दिखाई दे रही है.

टेलिस्कोप ने एक वीडियो भी रिकॉर्ड किया है जिसमें देखा जा सकता है कि सूर्य की सतह में हर 14 सेकेंड में उथल-पुथल होती है. वीडियो देखकर ऐसा लग रहा है जैसे सूर्य की सतह सिकुड़ और फैल रही है.

Sun's turbulent surface, पहली बार सामने आईं सूर्य की सतह की तस्वीरें, गुड़ की चिक्की जैसा दिखा नजारा

नेशनल साइंस फाउंडेशन (NSF) के डायरेक्टर फ्रांस कोर्डोवा के कहा कि, ‘हम सूर्य की सतह की तस्वीरों का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे. सूर्य की सतह की ये तस्वीरें अब तक सबसे ज्यादा रिजोल्यूशन वाली हैं. हम सोचते थे कि ये एक चमकते गोले जैसी होगी मगर असल में ये छोटे-छोटे सेल्स में दिखाई पड़ रही है.’

कोर्डोवा के मुताबिक इनोये सोलर टेलिस्कोप के जरिए अंतरिक्ष के मौसम को और बारीकी से समझने में मदद मिलेगी. इससे सूर्य के कोरोना के अंदर के मैग्नेटिक फील्ड (जहां सोलर विस्फोट होते हैं) का नक्शा बनाना मुमकिन होगा.

माना जाता है कि इनोये सोलर टेलिस्कोप दुनिया का सबसे बड़ा टेलिस्कोप है. ये टेलिस्कोप पहली बार में ही सूर्य की सतह को कैप्चर करने में सफल रहा है. कुछ महीने बाद इस टेलिस्कोप में दूसरे डिवाइस जोड़े जाएंगे जिसके बाद ये और इम्पैक्टफुल हो जाएगा.

सूर्य से जुड़ी खा बातें

सूर्य हमारे सौर मंडल सबसे बड़ा पिंड है. सूर्य का व्यास (13 लाख 90 हजार किलोमीटर) पृथ्वी के व्यास से 109 गुना ज्यादा है. सूर्य को ऊर्जा का सबसे शक्तिशाली स्रोत माना जाता है क्योंकि इसमें हाइड्रोजन और हीलियम गैसें मौजूद हैं. इस ऊर्जा का एक छोटा हिस्सा ही पृथ्वी तक पहुंच पाता है. सूर्य और पृथ्वी के बीच की औसत दूरी लगभग 14,96,00,000 किलोमीटर है. पृथ्वी तक सूर्य का प्रकाश पहुंचने में 8.3 मिनट का समय लगता है.

ये भी पढ़ें-

नारायण मूर्ति ने क्यों छुए रतन टाटा के पैर? एक शिकायती पत्र से शुरू हुआ था टाटा-मूर्ति परिवार का रिश्ता

हिंदुस्तान का इकलौता ‘महिला-फांसी घर’, 63 साल से है मुजरिम की ‘गर्दन’ का इंतजार

Related Posts