अपराधी को फांसी देने से पहले क्‍यों मिलता है 14 दिन का वक्‍त? जानें वजह

सुप्रीम कोर्ट के वकील ज्ञानंत सिंह ने टीवी9 भारतवर्ष से बातचीत की. उन्होंने बताया कि फांसी से पहले दोषी को 14 दिन का वक्त क्यों दिया जाता है.

सात साल पहले दिल दहला देने वाले निर्भया कांड के चार दोषियों को फांसी देने की कार्रवाई से पहले कई प्रक्रियाएं वाकी हैं. दोषियों के पास आखिरी रास्ता राष्ट्रपति के समक्ष दया याचिका दायर करने का होता है. दया याचिका खारिज होने और उसके बाद ब्लैक यानी डेथ वारंट जारी होने के 14 दिन बाद फांसी दी जा सकती है.

इसलिए मिलता है 14 दिन का समय

सुप्रीम कोर्ट के वकील ज्ञानंत सिंह के मुताबिक ब्लैक वारंट के बाद 14 दिन का समय दोषी को फांसी देने से पहले मानसिक तौर पर तैयार होने के लिए दिया जाता है. इस दौरान दोषी व्यक्ति अपने परिवार से मुलाकात कर सकता है. अपनी वसीयत बना सकता है.

उन्होंने कहा कि शत्रुघन चौहान मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कई दिशा-निर्देश तय किए थे, जिसका अनुपालन किया जाना अनिवार्य है. इसमें फांसी से पहले दोषी के परिवार को लिखित सूचना देने और दोषी को मानसिक तौर पर तैयार होने का मौका भी दिया जाएगा.

निर्भया मामले में अब आगे क्या?

सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले में दया याचिका के दाखिल करने और उसके निपटारे का कोई तय समय नहीं है. जबकि दोषी अक्षय कुमार ने सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की है जिस पर 17 दिसंबर को दोपहर दो बजे सुनवाई होनी है. जबकि ट्रायल कोर्ट सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुनवाई किए जाने के अगले दिन यानी 18 दिसंबर को सुनवाई करेगी.

तीन दोषी विनय, मुकेश और पवन की पुनर्विचार याचिका सुप्रीम कोर्ट द्वारा खारिज की जा चुकी है. हालांकि पुनर्विचार याचिका के बाद चारों दोषियों के पास सुप्रीम कोर्ट में ही क्यूरेटिव याचिका दाखिल करने का उपचार भी बकाया है. इसके बाद चारों की ओर से राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद के समक्ष दया याचिका दाखिल की जा सकती है.

जब दया याचिका राष्ट्रपति द्वारा खारिज की जाएगी और इसके बाद संबंधित ट्रायल कोर्ट ब्लैक वारंट जारी करेगा. यह अंतिम प्रक्रिया होगी जिसके 14 दिन बाद ही दोषियों को निर्धारित समय पर प्रक्रिया के मुताबिक फांसी दी जा सकती है.

ये भी पढ़ें-

निर्भया केस: दोषियों के डेथ वारंट की याचिका पर सुनवाई टली, कोर्ट को SC के फैसले का इंतजार

निर्भया के दरिंदों को फांसी की तैयारी, बक्‍सर से मंगवाई गईं 10 रस्सियां, जानें क्‍यों होती हैं खास