Colon Infection बनी एक्टर इरफान खान के मौत की वजह, जानें आखिर क्या है ये बला

आइए, जानते हैं कि Colon Infection बीमारी क्या है? साथ ही इसके कारण और लक्षण क्या हैं और इलाज में क्या सावधानी रखनी होती है. इस खतरनाक बीमारी ने बॉलीवुड के मशहूर एक्टर इरफान को हमसे छीन लिया.
Know about the disease called Colon Infection, Colon Infection बनी एक्टर इरफान खान के मौत की वजह, जानें आखिर क्या है ये बला

बॉलीवुड के मशहूर एक्टर इरफान खान का बुधवार को मुंबई में निधन हो गया. मंगलवार को कोलोन इंफेक्शन की वजह से उन्हें कोकिलाबेन अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था. बड़े डॉक्टर्स की लगातार निगरानी के बावजूद उन्होंने इस बीमारी के चलते दुनिया को अलविदा कह दिया.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

आइए, जानते हैं कि Colon Infection बीमारी क्या है? साथ ही इसके कारण और लक्षण क्या हैं और इलाज में क्या सावधानी रखनी होती है.

क्या हो और क्यों होता है कोलोन इंफेक्शन?

हमारी बड़ी आंत यानी कोलोन की भीतरी परत की सूजन को सामान्य शब्द में कोलाइटिस कहा जाता है. यह कई तरह के होते हैं. इंफेक्शन, खराब रक्त की आपूर्ति या फिर पैरासाइट्स की वजह से इसमें इंफेक्शन होता है. इन सभी हालत में कोलोन में सूजन, जलन और ऐंठन पैदा होती है. कई बार इस बीमारी में पेट में दर्द, डायरिया और मरोड़ जैसे लक्षण उभर कर सामने आते हैं.

आमतौर पर कोलाइटिस इंफेक्शन वायरस, बैकटीरिया और पैरासाइट्स की वजह से होता है. कई बार यह गंदे पानी, फूड प्वाइजनिंग या अनहाइजिन की वजह से भी हो सकता है.

इंफ्लामेटरी बोवेल सिंड्रोम (IBD) – आईबीडी पुरानी बीमारी का एक समूह है जो पाचन तंत्र की सूजन का कारण बनता है. दो मुख्य प्रकार के आईबीडी – क्रोहन रोग और अल्सरेटिव कोलाइटिस.

इस्केमिक कोलाइटिस – जब कोलोन के एक हिस्से में रक्त का प्रवाह कम हो जाता है, तो यह इस्केमिक कोलाइटिस का कारण बन सकता है.

एलर्जी से रिएक्शन – एलर्जिक कोलाइटिस व्यस्कों से ज्यादा बच्चों में पाया जाता है. खासकर नवजात शिशुओं में.। ये बीमारी लगभग दो-तीन प्रतिशत शिशुओं को प्रभावित करती है.

माइक्रोस्कोपिक कोलाइटिस – माइक्रोस्कोपिक कोलाइटिस लिम्फोसाइटों में बढ़त के कारण होता है. यह कोलाइटिस केवल एक माइक्रोस्कोप के जरिए देखा जा सकता है.

कई बार दवाइयों से भी होता है कोलोन इंफेक्शन

कई बार कुछ एंटी-इंफ्लामेटरी दवाइयों से भी कोलोन में सूजन आ जाती है. इस स्थिति के लिए है NSAIDS नाम की दवाई को ज्यादातर डॉक्टर जिम्मेदार मानते हैं. कई लोगों में खासकर उम्रदराज लोगों में इस दवा का इस्तेमाल लंबे समय के लिए होता है. इस वजह से भी कोलाइटिस इंफेक्शन का खतरा रहता है.

लक्षण- कोलोन इंफेक्शन के पीछे कई तरह की वजहें होती है. अगर संक्रमण के कारण अलग हैं, तो लक्षण भी अलग होंगे. कुछ लक्षण आम होते हैं. इनमें बुखार, बेकाबू लूज मोशन, जी मिचलाना, चक्कर आना, कै होना, वजन कम होना और लगातार थकावट रहना जैसे लक्षण प्रमुख हैं. कई बार डायरिया के दौरान पेट में भयानक दर्द महसूस होता है. ऐसी हालतों में तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए.

इलाज – डॉक्टर्स बताते हैं कि इलाज इस पर निर्भर करता है कि किस तरह का कोलाइटिस हुआ है. इसके इलाज में एंटी-इंफ्लामेटरी दवाएं, एंटीबायोटिक्स, सप्लीमेंट्स, सर्जरी और डेली लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव शामिल हैं.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts