लाल ग्रह पर जीवन मुमकिन? मंगल ग्रह पर बर्फ के नीचे 3 झीलें मिलीं

नेचर एस्ट्रोनॉमी में सोमवार को पब्लिश एक पेपर के अनुसार, शोधकर्ताओं ने एक खारे पानी की झील की उपस्थिति की पुष्टि की है, साथ ही अब मंगल (Mars) की सतह के नीचे छिपी तीन और झीलें भी मिली है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 3:34 pm, Tue, 29 September 20

दुनियाभर के वैज्ञानिक धरती के अलावा अन्य ग्रहों पर जीवन की तलाश कर रहे हैं. शोधकर्ताओंं ने मंगल ग्रह पर तीन अन्य झीलों को खोज निकाला है. इसके अलावा दो साल पहले एक बड़े जलाशय की खोज की गई थी, जो लाल ग्रह की बर्फीली सतह के नीचे मिला था. नेचर एस्ट्रोनॉमी में सोमवार को पब्लिश एक पेपर के अनुसार, शोधकर्ताओं ने एक खारे पानी की झील की उपस्थिति की पुष्टि की है, जिसे दो साल पहले खगोल वैज्ञानिकों (Planetary Scientist) द्वारा खोजा गया था और अब मंगल (Mars) की सतह के नीचे तीन और झीलें भी मिली है.

साइंस जर्नल नेचर की एक रिपोर्ट पेपर में सह लेखक और ग्रह वैज्ञानिक एलेना पेट्टिनाली ने कहा, “हमने पानी की बॉडी की पहचान की है, लेकिन हमें उसी के साथ तीन और पानी की स्रोत मिले हैं. मुख्यतौर पर यह एक जटिल प्रकिया है.”

ये भी पढ़ें- गुजरात के वड़ोदरा में निर्माणाधीन 3 मंज़िला इमारत ढही, तीन की मौत

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि बर्फ से ढंकी हुई झील करीब 20 किलोमीटर चौड़ी है. ये तीन छोटी झीलों से घिरी हुई है. हर झील कुछ किलोमीटर चौड़ी है.” शोधकर्ताओं ने अब जब मंगल पर भूमिगत जलाशय की पुष्टि की है, तो यह निष्कर्ष मार्स पर जीवन होने की संभावना के नए रास्ते खोल सकता है.

लाल ग्रह पर जीवन मुमकिन है?

वैज्ञानिकों का कहना है कि यदि जलाशय मौजूद हैं, तो वे मार्टियन जीवन के लिए संभावित निवास स्थान हो सकते हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि शोधकर्ताओं ने यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ईएसए) से रडार डाटा का इस्तेमाल किया, जो कि झीलों की खोज के लिए मार्स एक्सप्रेस के अंतरिक्ष यान की परिक्रमा कर रहा था.

रिपोर्ट में आगे कहा गया कि 2018 मे भी इसी क्षेत्र में जलाशय को खोजा गया था, जिसकी पुष्टि होने के बाद ये अनुमान लगाया कि मंगल ग्रह पर जीवन हो सकता है. लेकिन यह खोज 2012 से 2015 के बीच 29 टिप्पणियों पर आधारित थी. रिपोर्ट में कहा गया है कि इस नए अध्ययन में 2012 से 2019 के बीच 134 टिप्पणियों के डेटा का इस्तेमाल किया गया है. रिपोर्ट में कहा गया है कि बर्फ के नीचे होने के कारण झील का पानी नमकीन हो सकता है.

2018 में खोजी गई झील 

2018 में, शोधकर्ताओं ने मंगल के दक्षिणी ध्रुव के पास बर्फ के नीचे छिपी हुई एक बड़ी खारे पानी की झील की खोज की थी. रिपोर्ट में कहा गया था कि अगर पुष्टि हो जाती है कि मार्स पर पाए जाने वाला तरल पानी का पहला पिंड है तो यह निर्धारित करेगा कि मंगल ग्रह पर जीवन है और खोज में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित होगा. रिपोर्ट में दावा किया गया कि झील मंगल की सतह से लगभग 1.5 किलोमीटर नीचे है और कम से कम 1 किलोमीटर गहरी है.