सबसे लंबी और सबसे देर तक, आसमानी बिजली का नया रिकॉर्ड जानकर दंग रह जाएंगे

विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) की एक समिति के विशेषज्ञों ने कहा कि अब तक सबसे ज्यादा लंबाई वाली और सबसे ज्‍यादा देर तक आसमान में चमकने वाली बिजली (Lightning Strike) के दो नये विश्व रिकॉर्ड ब्राजील और अर्जेंटीना में दर्ज किए गए हैं.
Record of lightning in the sky, सबसे लंबी और सबसे देर तक, आसमानी बिजली का नया रिकॉर्ड जानकर दंग रह जाएंगे

ब्राजील (Brazil) में पिछले साल 700 किलोमीटर लंबी आसमानी बिजली (Lightning Strike) चमकी थी. इस बिजली की लंबाई बोस्टन और वाशिंगटन DC के बीच की दूरी के बराबर थी. संयुक्त राष्ट्र की मौसम एजेंसी ने ब्राजील में चमकी आसमानी बिजली को सबसे लंबी दूरी वाली बताया है, जो कि विश्व रिकॉर्ड है. वहीं सबसे ज्‍यादा देर तक बिजली कड़कने का रिकॉर्ड अर्जेंटीना के नाम है. 4 मार्च, 2019 को उत्तरी अर्जेंटीना (Argentina) में आसमानी बिजली की चमक 16.73 सेकंड तक दिखी.

विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) की एक समिति के विशेषज्ञों ने कहा कि अब तक सबसे ज्यादा लंबाई वाली और सबसे ज्‍यादा देर तक आसमान में चमकने वाली बिजली के दो नये विश्व रिकॉर्ड ब्राजील और अर्जेंटीना में दर्ज किए गए हैं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

इससे पहले 2007 में बना था रिकॉर्ड 

इससे पहले आसमानी बिजली की चमक का आकार या दूरी के लिहाज से एक रिकॉर्ड जून 2007 में अमेरिका के राज्य ओक्लाहोमा में बना था, जिसकी लंबाई 321 किलोमीटर (199.5 मील) लंबा था. इसी के साथ ज्यादा समय तक आसमानी बिजली की चमक दिखने के लिहाज से एक रिकार्ड अगस्त 2012 में दक्षिणी फ्रांस में बना था, जिसकी चमक 7.74 सेकंड तक देखी गई थी.

28 जून को अंतरराष्ट्रीय बिजली सुरक्षा दिवस से पहले अमेरिकी भू-भौतिकी संघ के ‘जिओफिजिकल रिसर्च लेटर’ में ये दोनों रिकॉर्ड पेश किये गये थे. इसके बाद WMO की समिति ने सैटेलाइट्स से मिली तस्वीरों के आधार पर इन दावों की जांच की और दोनों रिकॉर्डों को आधिकारिक मान्यता देने का फैसला किया है.

क्या दर्शाती हैं ये प्राकृतिक घटनाएं

WMO के ‘वेदर एंड क्लाइमेट एक्सट्रीम’ के मुख्य प्रतिवेदक प्रोफेसर रैंन्डेल सर्वेनी (Randall Cerveny) ने इन रिकार्ड को ‘असाधारण’ बताया है. उन्होंने कहा, “अकेली आकाशीय बिजली के ये असाधारण रिकॉर्ड हैं. पर्यावरण से जुड़ी ये अद्भुत घटनाएं दिखाती हैं कि प्रकृति क्या कर सकती है. इसी के साथ यह उन घटनाओं को मापने में वैज्ञानिक प्रगति को भी दर्शाती है. इनसे भी ज्यादा बड़ी घटनाएं अब भी मौजूद होने की संभावना है और आने वाले समय में आसमानी बिजली को मापने की टेक्नोलॉजी में सुधार के साथ हम उन्हें भी देख पाएंगे.”

आसमानी बिजली (Sky Lightening) से बचने के लिए एजेंसी ने 30-30 के नियम का पालन करने की सलाह दी है. उन्होंने कहा कि यदि फ्लैश और गड़गड़ाहट के बीच का समय 30 सेकंड से कम है तो अंदर रहें.

बिजली गिरने की घटनाओं के कुछ पुराने मामले

आसमानी बिजली गिरने से हर साल कई लोगों की अकाल मौत हो जाती है. साल 1975 में जिम्बाब्वे (Zimbabwe) में आसमानी बिजली गिरने से 21 लोगों की मौत हो गई थी. यह बिजली एक झोपड़ी पर गिरी थी जिसमें बिजली से ही बचने के लिए उन लोगों ने शरण ली हुई थी. साल 1994 में बिजली गिरने से सबसे ज्यादा 469 लोग मिस्र में मारे गये थे. तब यह बिजली तेल के टैंकरों पर गिरी थी. इससे तेल में आग लग गई और जलता हुआ तेल शहर में फैल गया.

बिहार और यूपी में बिजली गिरने से भारी तबाही

पिछले दिनों बिहार और UP में भी बिजली गिरने से काफी जनहानि हुई है. अधिकारियों ने बताया कि पिछले दो दिनों में बिहार और उत्तर प्रदेश में आंधी-तूफान और बिजली गिरने से 110 लोगों की मौत हो गई है और कम से कम 32 लोग घायल हुए हैं. लोगों की संपत्ति को भी बड़ा नुकसान पहुंचा है.

पटना में गुरुवार को आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, बिहार में यह बिजली और भी ज्यादा विनाशकारी थी जहां बुधवार को 83 लोग इससे मौत हो चुकी है. इस प्राकृतिक आपदा में 20 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं और अस्पताल में भर्ती हैं. लखनऊ में अधिकारियों ने बताया कि उत्तर प्रदेश में गुरुवार को बिजली गिरने से कम से कम 24 लोगों की मौत हो गई और 12 लोग घायल हुए हैं.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

Related Posts