Trending: पीएम मोदी की अपील के बाद इस डॉग ब्रीड के आए ‘अच्छे दिन’, हर जगह बढ़ी डिमांड

बीएसएफ (BSF) और स्पेशल टाइगर प्रोटेक्शन फोर्स और बांदीपुर के वन विभाग की टीम में पहली बार मूधोल ब्रीड को शामिल किया गया है. इससे पहले  इंडियन आर्मी फोर्स, सीआरपीएफ और अलग-अलग राज्यों के पुलिस स्क्वॉयड में अपनी सेवा दे चुके हैं.

देसी ब्रीड डॉग

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने मन की बात कार्यक्रम के दौरान लोगों से देसी नस्ल के कुत्तों को पालने की अपील की थी. इसमें मूधोल हांउड नाम का ब्रीड भी शामिल है. इसके बाद वन विभाग और अन्य विभागों ने देसी नस्ल के कुत्तों को अपने स्क्वायड में शामिल करने की कवायद तेज हो गई है. गुरुवार को बागलकोट जिले के कैनाइन रिसर्च एंड इनफार्मेशन सेंटर ने मूधोल हाउंड (ब्रीड) के 4 पिल्लों और 2 बांदीपुर टाइगर रिजर्व को सौंप दिया.

सीआरआई (CRI) के हेड महेश अकासी ने बताया, ”बीएसएफ (BSF) और वन विभाग ने बीदर में कर्नाटक एनिमल वेटिनरी और पशु और मत्स्य विज्ञान विद्यालय में ऑर्डर दिया था. हमने बीएसएफ को 2 नर और 2 मादा पिल्ले दिए और वन विभाग को एक नर और एक मादा पिल्ला दिया. हमने प्रत्येक पिल्लों की जोड़ियों के लिए 25000 रुपये लिए है.”

Health Tips: कोरोना काल में इन पांच चीजों से बढ़ाए इम्युनिटी, बीमारियों से रहेंगे दूर

Mudhol Hound
मूधोल हांउड

बीएसएफ और स्पेशल टाइगर प्रोटेक्शन फोर्स और बांदीपुर के वन विभाग की टीम में पहली बार मूधोल ब्रीड को शामिल किया गया है. इससे पहले  इंडियन आर्मी फोर्स, सीआरपीएफ और अलग-अलग राज्यों के पुलिस स्क्वॉयड में अपनी सेवा दे चुके हैं.

 जर्मन शेफर्ड की तरह है फुर्ती और तेजी

बीटीआर के डायरेक्टर टी. बालाचंद्र ने कहा, मूधोल हांउड जर्मन शेफर्ड जितना अच्छा है. यह अपराधों का पता लगाने में अधिक आक्रामक और तेज है. यह पहली बार है जब हम डॉग स्क्वायड में देसी नस्ल को शामिल कर रहे हैं और हमने विदेशी की बजाय देसी नस्ल के कुत्तों को प्राथमिकता देने का फैसला किया है. हम कुत्तों को जमीन पर उतराने से पहले तीन महीने की ट्रेनिंग देते हैं.

राज्य में सीआरसी एकमात्र कैनाइन रिसर्च सेंटर है जिसमें ब्रीडिंग और रिसर्च के लिए 40 कुत्ते हैं. इन 40 कुत्तों में से 37 मुधोल हांउड हैं जबकि बाकी पश्मी नस्ल के हैं. सीआरसी के हेड महेश ने बताया कि प्रधानमंत्री की पहल के बाद हमे मुधोल के लिए देशभर से सैकड़ों कॉल आ रहे हैं. हम साल में दो सीजन में पिल्ले बेचते है और यह ‘पहले आओ पहले पाओ’ के तर्ज पर है.

Related Posts