तेज म्यूजिक से भागेंगे जानवर, टाइगर रिजर्व के पास रहने वालों के लिए जारी हुई गाइडलाइंस

उत्तर प्रदेश के वन विभाग (Forest Department) के अधिकारियों ने बिजनौर और आस-पास के जिलों में रहने वाले किसानों से कहा है कि वे खेतों में जाते समय ढोल पीटें, हेलमेट पहनें और अपने साथ कुत्ते को ले जाएं.

  • IANS
  • Publish Date - 8:13 pm, Sun, 18 October 20
leopard
तेंदुआ

टाइगर रिजर्व (Tiger Reserve) के आसपास के इलाकों में अक्सर बाघ और तेंदुओं के आने का खतरा रहता है. ये जंगली जानवर खेतों में जाकर किसानों की फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं. इस स्थिति से निपटने के लिए वन विभाग की टीम ने किसानों को कुछ दिशा- निर्देश जारी किए हैं. आइए आपको बताते हैं कि क्या है वो दिशा- निर्देश.

उत्तर प्रदेश के वन विभाग के अधिकारियों ने बिजनौर और आस-पास के जिलों में रहने वाले किसानों से कहा है कि वे खेतों में जाते समय ढोल पीटें, हेलमेट पहनें और अपने साथ कुत्ते को ले जाएं. यह सलाह तेंदुए के हमलों से बचाने के लिए दी गई है. गन्ने की कटाई का मौसम शुरू होने से पहले बड़ी संख्या में किसान खेतों में काम करेंगे, ऐसे में उनके लिए तेंदुए (Leopard) और बाघ से खतरा हो सकता है. पिछले साल बाघ-तेंदुए के हमलों में 6 लोगों की जान चली गई थी. वहीं हाल ही में हमलों की घटनाएं हुई हैं लेकिन किसी की मौत नहीं हुई है.

जानिए क्या होती है Kombucha ड्रिंक? आपकी स्किन को बनाएगी हेल्दी और ग्लोइंग

दुकानों के बाहर तेंदुए से बचने के लिए पोस्टर लगाएं

वन अधिकारियों ने अमनगढ़ टाइगर रिजर्व के आसपास के क्षेत्रों में इंसान और जानवर के बीच संघर्ष को कम करने के लिए जागरूकता कार्यक्रम को तेज कर दिया है. ग्रामीण क्षेत्रों में राशन की दुकानों के बाहर ऐसे हमलों से बचने के उपाय बताने वाले पोस्टर लगाए हैं. वन विभाग (Forest Department) की टीमें किसानों के साथ बैठकें कर रही हैं.

बिजनौर के प्रभागीय वन अधिकारी एम.सेमरमन ने कहा, “गन्ने के खेतों के आसपास बाघ-तेंदुए होते हैं, क्योंकि वे उन्हें अभयारण्य जैसा माहौल देते हैं. हम किसानों को जागरूक कर रहे हैं कि वे खेतों में जाते समय हेलमेट और गर्दन पर पैड पहनें, ड्रम बजाएं या खेतों में काम करने के दौरान मोबाइल या रेडियो पर तेज संगीत बजाकर शोर मचाएं.”