मैरिड लाइफ ठीक नहीं है? ट्राई करिये ये कलर

vastu shastra, vastu tips, vastu tips for couple, vastu tips for married life, vastu tips for home, home, vastu color, home colour, home colour and vastu, home colour according to vastu, religion news, मैरिड लाइफ ठीक नहीं है? ट्राई करिये ये कलर

नयी दिल्ली

हिंदू धर्म में वास्तु शास्त्र का खास महत्व है. वास्तु शास्त्र में घर से जुड़ी तमाम बातों का उल्लेख किया गया है. जैसे कि घर कैसा होना चाहिए, घर का मुख्य दरवाजा किस दिशा में होना चाहिए और कौन सा सामान घर में कहां पर रखना चाहिए इत्यादि. हम सब अपनी पसंद के आधार अपने घर की दीवारों को रंगाते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि वास्तु के अनुसार घर की दीवारों का रंग क्या होना चाहिए? किन रंगों के घर को पेंट कराना शुभ माना गया है? यदि नहीं तो आज हम आपको इस बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं।

वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि रंगों का लोगों के मन-मस्तिष्क पर गहरा प्रभाव पड़ता है. अलग-अलग रंग व्यक्ति के मन में अलग-अलग तरह के विचार पैदा करते हैं. इससे किसी व्यक्ति के आपसी रिश्ते भी प्रभावित होते हैं. इसलिए घर की दीवारों को पेंट कराते समय रंग पर विशेष ध्यान देने के लिए कहा जाता है. वास्तु शास्त्र की मानें तो घर की दीवारों को पेंट कराने के लिए हल्का गुलाबी, हल्का नीला या भूरे रंग का इस्तेमाल करना चाहिए. इन रंगों को शांत और घर में शांति लाने वाला माना गया है.

ड्राइंग रूम के लिए सफेद, गुलाबी या हरा
ड्राइंग रूम हम सबके घर की एक अहम जगह है. हम इसे सदैव साफ-सुथरा और सजाकर रखना चाहते हैं. वास्तु शास्त्र के मुताबिक ड्राइंग रूम को पेंट कराने के लिए सफेद, गुलाबी या हरे रंग का इस्तेमाल करना चाहिए. अगर बेडरूम की बात करें तो इसके लिए आसमानी, पिंक, क्रीम या हल्का हरा रंग अच्छा माना गया है. माना जाता है कि बेडरूम में इन रंगों का इस्तेमाल करने से पति-पत्नी के बीच प्यार बढ़ता है. इससे दांपत्य जीवन में मधुरता बनी रहती है.

स्टडी रूम के लिए गुलाबी, भूरा, आसमानी
डाइनिंग रूम के लिए पिंक, आसमानी या हल्का हरा रंग शुभ माना गया है. मान्यता है कि डाइनिंग रूम में इन रंगों का इस्तेमाल करने से परिवार में एकता आती है. परिवार के लोग भोजन करते समय एक-दूसरे से प्यार से बात करते हैं. अब हम स्टडी रूम की बात कर लेते हैं. वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि स्टडी रूम की दीवारों को गुलाबी, भूरा, आसमानी या हल्के हरे रंग से रंगाना चाहिए. कहा जाता है कि इससे पढ़ाई-लिखाई करते समय ध्यान नहीं भटकता है. घर के बच्चे मन लगाकर पढ़ते हैं.

Related Posts