नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी बोले, ‘प्रज्ञा ने गांधी की आत्मा को मारा’

प्रज्ञा ठाकुर के गोडसे वाले बयान पर तूफान थमता नहीं दिख रहा. अब नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने उनकी आलोचना की है.

प्रज्ञा ठाकुर का गोडसे पर दिया बयान सियासी तूफान ला चुका है. उनके माफी मांगने और मोदी का बयान आने के बाद भी कुछ खास असर नहीं दिखा. पीएम मोदी ने कहा था कि ‘प्रज्ञा का बयान घृणा के लायक है, उन्हें मन से माफ नहीं कर पाऊंगा.’

अब नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने भी प्रज्ञा के बयान की आलोचना की है. उन्होंने ट्वीट किया है कि “गोडसे ने गांधी के शरीर की हत्या की थी लेकिन प्रज्ञा जैसे लोग उनकी आत्मा की हत्या के साथ अहिंसा, शांति, सहिष्णुता और भारत की आत्मा की हत्या कर रहे हैं. गांधी हर सत्ता और राजनीति से ऊपर हैं. भाजपा नेतृत्व छोटे से फायदे का मोह छोड़कर उन्हें तत्काल पार्टी से निकालकर राजधर्म निभाए.”

बता दें कि कैलाश सत्यार्थी ‘बचपन बचाओ आंदोलन’ से जुड़े हुए हैं. जिसने अब तक 87 हजार से अधिक बच्चे बालश्रम और मानव तस्करी के चंगुल से छुड़ाए हैं. 2014 में शांति के लिए दुनिया का सबसे बड़ा सम्मान नोबेल प्राइज़ प्राप्त किया था.

प्रज्ञा ठाकुर ने दो दिन पहले रोड शो से लौटते हुए बयान दिया था कि ‘नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, हैं और रहेंगे.’ बयान आते ही बवाल शुरू हो गया था. बीजेपी ने खुद को इस बयान से अलग करते हुए कहा था कि प्रज्ञा को माफी मांगनी पड़ेगी. देर रात प्रज्ञा ठाकुर ने माफी मांग ली थी. ट्वीट किया था कि ‘मैं देश की जनता से माफी मांगती हूं. मेरा बयान गलत था. मैं महात्मा गांधी का बहुत सम्मान करती हूं.’

Godse, नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी बोले, ‘प्रज्ञा ने गांधी की आत्मा को मारा’

ये भी पढ़ें:

गोडसे को देशभक्त बताने वाली प्रज्ञा ठाकुर को मन से माफ नहीं कर पाएंगे तो क्या सज़ा मिलेगी?

महात्मा गांधी को पाकिस्तान का राष्ट्रपिता बताने वाले बीजेपी नेता को पार्टी ने किया निलंबित

प्रज्ञा ठाकुर के गोडसे वाले बयान पर केंद्रीय मंत्री अनंत हेगड़े ने किया समर्थन, फिर कहा ‘हैक हुआ अकाउंट’

राहुल गांधी ने कहा- भाजपा और आरएसएस GOD-ke लवर नहीं GOD-Se लवर हैं