TMC की शिकायत करने गए BJP नेताओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार

रविवार को मतदान के दिन दो कार्यकर्ता BJP की ओर से पोलिंग एजेंट बने थे जिसके बाद दोनों के घर पर तृणमूल के कार्यकर्ताओं ने रातभर हमला किया था.

मिदनापुर: पश्चिम बंगाल के रामनगर थाने में पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराने गए दो बीजेपी नेताओं को पुलिस ने थाने के लॉकआप में बंद कर दिया. बाद में गांव वालों ने इस घटना के खिलाफ पुलिस स्टेशन के सामने प्रदर्शन किया. जिसके बाद पुलिस ने उन दोनों बीजेपी कार्यकर्ता को बिना किसी शर्त के छोड़ दिया.

यह घटना मिदनापुर जिला स्थित रामनगर थाना इलाके में हुई. जानकारी के मुताबिक गिरफ्तार हुए दोनों नेताओं के नाम सत्येन पंचधाई और नित्यगोपाल दास है. मंगलवार सुबह इन दो बीजेपी नेताओं को पुलिस ने छोड़ दिया है. इसके बाद गांव वालों ने जुलूस निकाला और दोनों नेताओं को घर ले गए.

जानकारी के मुताबिक रविवार को मतदान के दिन रामनगर थाने के मइतना गांव में अरुण साहू और दिब्येंदु पाणिग्राही बीजेपी के बूथ एजेंट बने थे. इसी वजह से वोटिंग खत्म होने के बाद इन दो बीजेपी कार्यकर्ताओं के घर में तृणमूल के लोगों ने रातभर हमला किया. जिसके चलते यह दोनों गंभीर रूप से घायल हुए थे.

इनको बचाते हुए कई बीजेपी कार्यकर्ता घायल हो गए थे. इसी घटना के खिलाफ सोमवार को रामनगर थाने में शिकायत दर्ज कराने गए सत्येन पंचधाई एबं नित्यगोपाल दास को पुलिस ने शिकायत दर्ज करने से मना कर दिया. जिसका लोगों ने विरोध किया. तब पुलिस ने इन दो बीजेपी के नेताओं को बिना किसी शिकायत के आधार पर ही हिरासत में ले लिया. और रात भर दोनों को जेल में रखा.

इस बात का पता चलते ही गांव वालों ने मंगलवार सुबह थाने का घेराव किया. साथ ही दीघा नंदकुमार116B नेशनल हाईवे को बंद कर दिया. मामला गंभीर होने की वजह से पुलिस ने दोनों बीजेपी कार्यकर्ता को छोड़ दिया.

गांव वाले दोनों नेताओं को जुलूस के साथ घर ले गए. इन नेताओं का कहना है कि यहां तृणमूल के राज में लोगों का कोई अधिकार नहीं है. यहां पुलिस और प्रशासन तृणमूल के साथ मिल गया है. पर हम लोग अपनी लड़ाई से पीछे नहीं हटेंगे और इसी तरह से अपनी लड़ाई जारी रखेंगे.

ये भी पढ़ें- कोलकाता में शाह की रैली के पहले मचा बवाल, स्थानीय प्रशासन ने हटाए पोस्टर और होर्डिंग