TMC-BJP हिंसा में टूटी ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति, ममता ने उठाए टुकड़े

मूर्ति टूटने के बाद TMC ने BJP के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने का ऐलान किया है.

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में मंगलवार को अमित शाह के रोड शो के दौरान BJP-TMC कार्यकर्ताओं में झड़प हो गई. यह झड़प हिंसा में बदल गई. इसी दौरान उपद्रवियों ने विद्यासागर कॉलेज में ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा को भी तोड़ दिया.

शाह की रैली के बाद रोड शो में जमकर बवाल मचा. टीएमसी कार्यकर्ताओं ने रोड शो के दौरान काले झंडे दिखाए. जिसके बाद मचे हंगामे में बीजेपी और टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई. इसके बाद टीएमसी कार्यकर्ताओं ने गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया. इस दौरान पत्थरबाजी भी हुई.

कौन हैं ईश्वर चंद्र विद्यासागर जिनकी मूर्ति तोड़ी गई-

ईश्वर चंद्र विद्यासागर बंगाल पुनर्जागरण के एक प्रमुख व्यक्ति थे, जो राजा राम मोहन रॉय के साथ मिलकर समाज के पारंपरिक मानदंडों को चुनौती देने वाले पहले भारतीयों में से एक थे. उन्हें महिलाओं, विशेष रूप से विधवाओं के साथ किए गए अन्यायों के खिलाफ लड़ने के अपने अथक प्रयासों के लिए सबसे ज्यादा याद किया जाता है.

बाल विधवाओं की दुर्दशा से प्रेरित होने के बाद उन्होंने ब्रिटिश सरकार को कार्रवाई करने के लिए प्रेरित किया और हिंदू विधवा पुनर्विवाह अधिनियम, 1856 को पारित करने के लिए उन्होंने दवाब दिया. संस्कृत और दर्शनशास्त्र में अपने गहन ज्ञान के कारण, उन्होंने संस्कृत कॉलेज से “विद्यासागर” शीर्षक प्राप्त किया. 1891 में उनकी मृत्यु हो गई थी.

मूर्ति टूटने के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी विद्यासागर कॉलेज पहुंची उन्होंने यहां पर अपने हाथ से मूर्ति के टुकड़े उठाए. साथ ही TMC ने मूर्ति तोड़े जाने को लेकर BJP के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने का ऐलान किया है. ममता बनर्जी ने बेहाला की जनसभा में कहा कि मूर्ति तोड़े जाने का जवाब BJP के खिलाफ डला एक-एक वोट होगा.

वहीं केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने टीवी9 भारतवर्ष से बातचीत में बताया, “मैं उसी गाड़ी में था, अमित शाह जी और बंगाल के बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष भी हमारे साथ थे. तृणमूल कांग्रेस की जैसी संस्कृति है वो पूरी तरह से डर गए थे. आज जो जन सैलाब कोलकाता में उमड़ा उससे टीएमसी के लोग बौखला गए है.”

उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी के भीतर तृणमूल कांग्रेस के कुछ गुंडे होंगे जो कि पत्थर लेकर खड़े थे. उन लोगों ने पत्थरबाजी करने की कोशिश की. जैसे ही रोड शो विद्यासागर कॉलेज के पास वहां कुछ लोगों ने काले झंडे दिखाने की कोशिश की. हॉस्टल के भीतर से भी कुछ पत्थर फेंके गए. हम लोगों को जहां तक परमिशन दी गई थी हम वहीं तक जा रहे थे. उसी में तृणमूल कांग्रेस के कुछ 10-12 लोगों ने पत्थर फेंकने शुरु कर किए. ऐसा उनको नहीं करना चाहिए.

ये भी पढ़ें- कोलकाता में अमित शाह के रोड शो में भिड़े BJP-TMC कार्यकर्ता, हुई पत्थरबाजी, गाड़ियों में भी लगाई आग