‘अपने हाथ से लेटर लिखकर आरोप लगाना AAP वालों का स्टाइल’- BJP प्रत्याशी प्रवेश वर्मा

वेस्ट दिल्ली से मौजूदा सांसद और BJP प्रत्याशी प्रवेश सिंह वर्मा से Tv9 भारतवर्ष के संवाददाता प्रेरित कुमार की बातचीत.

नई दिल्ली:  2019 लोकसभा चुनाव के तहत छठे चरण का मतदान 12 मई को होना है. चुनावी प्रचार-प्रसार पर रोक लग गई है. इस दौरान वेस्ट दिल्ली से मौजूदा सांसद और बीजेपी प्रत्याशी प्रवेश सिंह वर्मा से Tv9 भारतवर्ष के संवाददाता ने बात की.

सवाल- प्रचार थमने का बाद किस तरह से  चुनावी तैयारियां आप कर रहे हैं ?

जवाब- हमारे जितने भी कार्यकर्ता हैं उन्हें सामग्री और वोटिंग लिस्ट दिए जाने हैं, सुबह सबको उठाना और समय से पहुंचाने की चिंता में हमारे ऑफिस वाले लगे हैं. जितने भी वोटर है उनको कैसे घर से निकाल कर वोट दिलाने के लिए ले जाएं उस पर हमारे कार्यकर्ता काम कर रहे हैं.

सवाल- आप प्रत्याशी ने आपके ऊपर कई आरोप लगाए, आपने आप प्रत्याशी को लीगल नोटिस भेजा. तो क्या आपको नहीं लगता कि इस आरोप-प्रत्यारोप, नोटिस और मानहानि के बीच में आम लोगों के मुद्दे गुम हो जाते हैं ?

जवाब- कल मुझे जानकारी मिली कि आम आदमी के प्रत्याशी ने आरोप लगाया है कि शराब और पैसे बांटे जा रहे हैं. पुलिस में कोई कंप्लेन, कोई फोटो या आम लोग आकर कहते. आप प्रत्याशी को मालूम है कि जमानत उनकी जब्त हो रही है, कोई उनको वोट नहीं कर रहा है तो आनन फानन में वो ऐसा कर रहे हैं. जैसे आतिशी ने किया. मनीष सिसोदिया या अरविंद केजरीवाल ने ही चिट्ठी लिखी है. खुद ही अपने हाथ से लेटर लिखकर आरोप लगाना इनका स्टाइल हो गया है.

सवाल- दिल्ली कांग्रेस में महाबल मिश्रा एक मात्र पूर्वांचली चेहरा हैं और इस क्षेत्र में पूर्वांचली वोटर की तादात अच्छी है तो आपको क्या लगता है कि वो पूर्वांचली वोटर को खींचने में सफल होंगे ?

जवाब- हमारे तो प्रदेश अध्यक्ष भी इसी समाज से आते हैं. दूसरा कि मैं जाती को चुनावी मुद्दा नहीं मानता. मैंने पहले ही तय कर लिया था कि किसी के बारे कोई गलत बात नहीं बोलूंगा, वो भले ही गलत क्यों न बोलें.

सवाल- पिछले 5 चरणों के चुनाव में पीएम मोदी ने बालाकोट, सेना, शौर्य, पाकिस्तान पर वोट मांगा है, और अब छठे चरण में वो राजीव गांधी के कार्यकाल की चर्चा कर रहे हैं, मिस्टर क्लीन और आईएनएस विराट का मुद्दा घसीट रहे हैं, तो क्या आप लोगों ने पिछले 5 साल में वो विकास का कार्य नहीं किया जिसे पीएम मोदी गिनाकर वोट मांग सकें ?

जवाब- विकास की जो बात है वो 200 से ज्यादा सफल योजनाएं ग्राउंड पर चल रही है. यह भारत के मान सम्मान का चुनाव है. भारत की प्रतिष्ठा दांव पर लगा होता है. अच्छी सरकार नहीं बनी तो देश की जनता को भुगतना पड़ेगा जो जनता 1947 के बाद भुगतती आई है. देश के युवा वोटर तो तब पैदा भी नहीं हुए थे, जब कांग्रेस घोटाले करती थी. उनको तो ये भी नहीं पता कि upa की सरकार में क्या घोटाले हुए. उन सब को यह बताना जरूरी, तब वो कंपेयर कर कर के तय करेंगे कि वोट किसे देना है.