राजीव गांधी की हत्या के लिए बीजेपी को अहमद पटेल ने क्यों ठहराया ज़िम्मेदार

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और गांधी परिवार के क़रीबी अहमद पटेल ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने 1989 में उस विश्वनाथ प्रताप सिंह सरकार को समर्थन दिया था, जिसने राजीव को अतिरिक्त सुरक्षा देने से इनकार कर दिया था.

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 में कथित राफेल डील घोटाला से अचानक ही मुद्दा राजीव गांधी पर चला गया है. पीएम मोदी पांचवे चरण की वोटिंग से पहले अचानक ही इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस पार्टी पर हमलावर हो गए. जिसके बाद कांग्रेस पार्टी पीएम मोदी की भाषा को लेकर उनपर सवाल खड़े कर रही है.

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और गांधी परिवार के क़रीबी अहमद पटेल ने पीएम मोदी के इस बयान को कायरता वाला बताया और कहा कि बीजेपी समाज में एक बार फिर से वही हिंसा का माहौल बना रही है जिसमें राजीव गांधी की हत्या हुई थी.

उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी ने 1989 में उस विश्वनाथ प्रताप सिंह सरकार को समर्थन दिया था, जिसने राजीव को अतिरिक्त सुरक्षा देने से इनकार कर दिया था.

उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘शहीद प्रधानमंत्री को गाली देना कायरतापूर्ण है लेकिन उनकी हत्या के लिए ज़िम्मेदार कौन हैं? बीजेपी समर्थित वीपी सिंह सरकार ने उन्हें अतिरिक्त सुरक्षा देने से इनकार कर दिया और उन्हें सिर्फ एक पीएसओ दिए वह भी तब जब खुफिया सूचना उपलब्ध थी और सुरक्षा के लगातार अपील की गई थी.’

उन्होंने आगे ट्वीट किया, ‘राजीव जी ने उनकी नफरत के कारण जिंदगी गंवाई और वह आधारहीन आरोपों का जवाब देने के लिए हमारे बीच मौजूद नहीं हैं जो कि उनपर लगाए जा रहे हैं.’

हालांकि बीजेपी नेता और वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पटेल के आरोपों का जवाब देते हुए कहा, ‘दिसंबर 1990 से मई 1991 तक, जिस दौरान राजीव गांधी की हत्या की गई उस दौरान कांग्रेस केंद्र में चंद्रशेखर सरकार का समर्थन कर रही थी.’

और पढ़ें- राजीव गांधी पर पीएम मोदी की टिप्पणी से आहत आदमी ने चुनाव आयोग को खून से लिखी चिट्ठी

और पढ़ें- भ्रष्टाचारी नंबर वन या मिस्टर क्लीन? पढ़ें राजीव गांधी की बतौर प्रधानमंत्री 5 सफलता-विफलता