‘मुलायम और हमारे खिलाफ CBI जांच करा कांग्रेस ने दिया धोखा’, अखिलेश यादव का बयान

मुलायम, अखिलेश और प्रतीक के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जांच कर रही है.

नई दिल्‍ली: उत्‍तर प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने कहा है कि कांग्रेस ने देश को धोखा दिया है. उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस ने मुलायम सिंह यादव और डिंपल यादव के खिलाफ सीबीआई जांच बैठाई. आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन न होने पाने की बात पर उन्‍होंने कहा कि गलती होगी तो कांग्रेस की होगी. कांग्रेस ने ही धोखा दिया होगा. एक टीवी चैनल से बातचीत में उन्‍होंने कहा, “हमारे पुराने नेता बताते हैं कि कांग्रेस इसी तरह काम करती है. कांग्रेस ने हमें भी धोखा दिया और अरविंद केजरीवाल को भी दिया.

अखिलेश ने कहा कि कांग्रेस और बीजेपी में कोई फर्क नहीं है. उन्‍होंने कहा, “कांग्रेस पार्टी कंफ्यूज्‍ड है. हमारे पर जो पीआईएल है, सीबीआई है, उसकी जिम्‍मेदार कांग्रेस है.” अखिलेश ने कहा, “आज देश में जितनी भी बुराइयां दिख रही हैं देश में, सबकी जिम्‍मेदार कांग्रेस है. जिस व्‍यक्ति ने नेताजी (मुलायम सिंह यादव) और हम पर की थी, वो कांग्रेस का आदमी है. कांग्रेस मना करती है कि वो उनका नहीं है. लेकिन लखनऊ में जब नामांकन हुआ, तो वही पीआईएल करने वाला आया था. मुझे लगता है कि हमें परेशान करने के लिए बीजेपी और कांग्रेस ने सीबीआई और पीआईएल करने वाले से गठबंधन किया है.”

2005 में, कांग्रेस नेता विश्‍वनाथ चतुर्वेदी ने सुप्रीम कोर्ट में पीआईएल दाखिल कर अखिलेश, मुलायम, प्रतीक और डिंपल के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के मामलों में सीबीआई जांच की मांग की थी. 1 मार्च, 2007 को अदालत ने सीबीआई को आरोपों की जांच करने के आदेश दिए. बाद में अदालत ने डिंपल का नाम हटा दिया क्‍योंकि तब तक व‍ह किसी सार्वजनिक पद पर नहीं थीं. सीबीआई ने 2007 में इस मामले से जुड़ी स्‍टेटस रिपोर्ट दायर की थी. इसी साल मार्च में सुप्रीम कोर्ट ने जांच में क्‍या प्रगति हुई, इसकी जानकारी सीबीआई से मांगी थी.

अलग ढंग से सोचती है कांग्रेस

यूपी के पूर्व सीएम ने कहा, “कांग्रेस अलग तरीके से सोचती है. जिस समय बसपा से मध्‍य प्रदेश में गठबंधन की बात चल रही थी, उन्‍होंने तोड़ दिया. उसके बाद वही कांग्रेस के लोग मुझसे चाहते थे कि मैं गठबंधन कर लूं. मैंने कहा कि बिना बसपा के मैं गठबंधन नहीं कर सकता हूं. उसके बाद तीन सरकारें बन गई कांग्रेस की, उसके बाद उन्‍होंने पीछे मुड़कर देखा ही नहीं.”

ये भी पढ़ें

योगी जैसे दिखने वाले बाबा जी ले आए हैं अखिलेश यादव, सीएम पर यूं कसा तंज

चार फेज के चुनाव बाद मायावती के लिए आखिर क्यों नरम हुए पीएम नरेंद्र मोदी?