अल्पेश ठाकोर ने की गुजरात डिप्टी सीएम से मुलाकात, थाम सकते हैं बीजेपी का दामन

कांग्रेस ने मांग की है कि उन्हें पार्टी से इस्तीफा देने के चलते अयोग्य घोषित किया जाए. अल्पेश ने लोकसभा चुनाव के ठीक पहले कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया था.

गांधीनगर: गुजरात के राजनीतिक हलकों बीजेपी का दामन थामने की अटकलों के बीच राधनपुर विधायक अल्पेश ठाकोर ने सोमवार को उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल से गांधीनगर में मुलाकात की. इस दौरान उनके साथ बायड के विधायक धवलसिंह ठाकोर भी मौजूद थे.

हालांकि, अफवाहों का खंडन करते हुए, अल्पेश ने दावा किया कि वह नितिन पटेल से इसलिए मिले थे, ताकि अपने निर्वाचन क्षेत्र में शिक्षा जैसे मुद्दों के बारे में उनसे चर्चा कर सकें. लगभग एक घंटे तक चली इस बैठक ने एक बार फिर इस बहस को जन्म दे दिया है कि अल्पेश और धवलसिंह बहुत जल्द बीजेपी में शामिल हो सकते हैं.

वहीं कांग्रेस ने मांग की है कि उन्हें पार्टी से इस्तीफा देने के चलते अयोग्य घोषित किया जाए. गुजरात बीजेपी के प्रवक्ता प्रशांत वाला ने भी अल्पेश ठाकोर के बयान से ही सहमति जताई. उन्होंने कहा, “हां, वह धवलसिंह के साथ आज उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल से मिले हैं, लेकिन यह बैठक उनके निर्वाचन क्षेत्र की समस्याओं पर चर्चा करने के लिए थी.”

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले अल्पेश ने 10 अप्रैल को अपने दो समर्थकों – बायड विधायक धवलसिंह ठाकोर और बेचराजी विधायक भारतजी ठाकोर के साथ कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया था. हालांकि उन्होंने यह स्पष्ट किया कि उनमें से किसी ने भी विधायक के रूप में इस्तीफा नहीं दिया, बल्कि केवल कांग्रेस पार्टी और पार्टी में सभी पदों से.

ओबीसी एससी-एसटी एकता मंच और गुजरात क्षत्रिय ठाकोर सेना के अध्यक्ष अल्पेश को बिहार के लिए कांग्रेस सचिव भी नियुक्त किया गया था.अल्पेश जो 2017 के विधानसभा चुनावों से ठीक पहले कांग्रेस में शामिल हुए थे, उन्होंने अपना पक्ष रखा था कि वे लोगों द्वारा चुने गए हैं, इसलिए उन्हें विधायक के रूप में अयोग्य नहीं ठहराया जा सकता.

ये भी पढे़ं: नई राजनीति के तीन संदेश देती स्मृति ईरानी की एक तस्वीर