अगर PM मोदी का परिवार होता तो वह भी ऐसे ही छुट्टी मनाने जाते: आनंद शर्मा

पीएम मोदी ने आरोप लगाया था कि राजीव गांधी और उनके परिवार ने आईएनएस विराट को 10 दिनों के लिए "व्यक्तिगत टैक्सी" के रूप में इस्तेमाल किया था.

नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने दिवंगत प्रधानमंत्री राजीव गांधी के लक्षद्वीप में नौसैनिक युद्धपोत को छुट्टी के लिए इस्तेमाल करने के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अगर परिवार होता तो उन्होंने भी यही किया होता.

उन्होंने कहा, “कोई भी प्रधानमंत्री ऐसा ही करता, लेकिन इस प्रधानमंत्री का कोई परिवार नहीं है. यदि उनका कोई परिवार होता, तो वह भी वहां जाते. लेकिन वह अकेले ही जाते हैं क्योंकि उनका परिवार से कोई संबंध नहीं है या परिवारिक मूल्यों के लिए कोई सम्मान नहीं है.”

पीएम मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर लगाए थे आरोप

पीएम मोदी ने आरोप लगाया था कि राजीव गांधी और उनके परिवार ने आईएनएस विराट को 10 दिनों के लिए “व्यक्तिगत टैक्सी” के रूप में इस्तेमाल किया था, जब वे अस्सी के दशक के अंत में लक्षद्वीप के एक द्वीप पर छुट्टियां मना रहे थे.

प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार को नई दिल्ली में एक चुनावी रैली में कहा, “कभी कल्पना की थी कि भारतीय सशस्त्र बलों के एक प्रमुख युद्धपोत को निजी छुट्टी के लिए टैक्सी के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है? यह तब हुआ था जब राजीव गांधी प्रधानमंत्री थे और वह 10 दिनों के लिए छुट्टी पर जा रहे थे. कांग्रेस परिवार ने युद्धपोत को निजी टैक्सी के तौर पर इस्तेमाल किया. राजीव गांधी अपने ससुराल वालों के साथ थे, जो इटली से आए थे.”

पूर्व नौसेनिक अधिकारियों ने पीएम मोदी के बयान का खंडन किया

इस बयान की काफी आलोचना हुई. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस बयान के पलटवार में कहा था कि वह अपने पिता के साथ आईएनएस विराट पर गए थे, लेकिन वह एक आधिकारिक यात्रा थी कोई छुट्टी नहीं. राहुल गांधी ने कहा था कि “विमान वाहक पर कोई छुट्टी क्यों बिताएग? वह कोई क्रूज जहाज नहीं है!”

दो रिटायर्ड नौसैनिक अधिकारियों ने भी पीएम मोदी के इस दावे का जोरदार खंडन करते हुए कहा कि उस समय कोई भी विदेशी नागरिक विमान वाहक पोत पर नहीं गया था. वाइस एडमिरल पसरीचा ने भी आईएनएस विराट को “निजी टैक्सी” के रूप इस्तेमाल किए जाने वाली बात को पूरी तरह से गलत बताया.

ये भी पढ़ें: AAP ने गंभीर और BJP को भेजा लीगल नोटिस, 24 घंटे में माफीनामे की रखी शर्त