BJP नेताओं हेमंत बिस्वा शर्मा और दिलीप घोष के काफिले पर हमला, TMC कार्यकर्ताओं पर आरोप

भाजपा नेताओं ने टीएमसी के अलावा पश्चिम बंगाल पुलिस पर भी आरोप लगाए हैं. हेमंत बिस्वा शर्मा ने लिखा कि टीएमसी के गुंडों ने दोनों तरफ सड़क जाम कर दी है और...

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान शुरू हुई चुनावी हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है. राज्य में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं व कार्यकर्ताओं के बीच झड़प अभी भी जारी है. भाजपा नेताओं हेमंत बिस्वा शर्मा और दिलीप घोष के काफिले पर मंगलवार को कांठी लोकसभा क्षेत्र में हमला हुआ है. इस हमले के लिए भाजपा ने टीएमसी को जिम्मेदार ठहराया है.

असम सरकार में कैबिनेट मंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा ने ट्वीट करके इस हमले के बारे में जानकारी दी है. उन्होंने लिखा, “कांठी लोकसभा क्षेत्र में खेजुरी इलाके में हमारे काफिले पर हमला हुआ है. कई गाड़ियों के शीशे तोड़ दिए गए हैं. टीएमसी कार्यकर्ताओं ने ये हमले किए, जिसमें कई भाजपा कार्यकर्ता घायल हो गए. टीएमसी कार्यकर्ताओं ने आक्रामक नारेबाजी के साथ-साथ गाली-गलौच भी की है.”

हेमंत बिस्वा शर्मा ने एक और ट्वीट करते हुए लिखा, “सीआरपीएफ के जवान हमारे बचाव के लिए घटनास्थल पर आ चुके हैं लेकिन टीएमसी के गुंडे उन्हें परेशान कर रहे हैं. ये लोग हर किसी पर चिल्ला रहे हैं और गालियां दे रहे हैं.”

भाजपा नेताओं ने टीएमसी के अलावा पश्चिम बंगाल पुलिस पर भी आरोप लगाए हैं. हेमंत बिस्वा शर्मा ने लिखा कि टीएमसी के गुंडों ने दोनों तरफ सड़क जाम कर दी है और पश्चिम बंगाल की पुलिस मूक दर्शक बन गई है.

हेमंत ने कुछ समय बाद ट्वीट करके बताया कि ‘सीआरपीएफ के जवान हमें यहां से निकालने में मदद कर रहे हैं. टीएमसी के गुंडों ने 20 से अधिक मोटर साइकिलों से तोड़फोड़ की है.’

Read Also: अलवर गैंगरेप: थानाधिकारी के बाद एसपी पर गिरी गाज, सरकार ने किया एपीओ