माफिया डॉन राजन तिवारी ने जॉइन की BJP, RJD नेता की हत्या में जा चुके हैं जेल

राजन तिवारी ने इस मौके पर 'फिर एक बार मोदी सरकार' का नारा लगाया. वो अबतक दो बार विधायक रह चुके हैं.

लखनऊ: बिहार के माफिया डॉन राजन तिवारी शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए. भाजपा के वरिष्ठ नेता आशुतोष टण्डन ने उन्हें पार्टी की सदस्यता ग्रहण कराई. इस मौके पर राजन ने ‘फिर एक बार मोदी सरकार’ का नारा लगाया. वो अबतक दो बार विधायक रह चुके हैं. कहा जा रहा है कि राजन को चुपके से भाजपा की सदस्यता दिलाई गई.

गोरखपुर के रहने वाले हैं राजन तिवारी
राजन उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के सोहगौरा गांव के रहने वाले हैं. उनके परिवार के लोग और रिश्तेदार इसी इलाके में रहते हैं. राजन का बचपन इसी गांव में बीता है. साथ ही उनकी प्रारम्भिक शिक्षा भी इसी जिले में हुई है. कहा जाता है कि युवा अवस्था में उनके कदम बहक गए थे. उन्होंने जाने-अनजाने ही अपराध की दुनिया में कदम रख दिया था.

ऐसा कहा जा रहा है कि राजन को चुपके से भाजपा की सदस्यता दिलाई गई.

माफिया श्रीप्रकाश शुक्ला के रहे हैं साथी
राजन को कुख्यात माफिया श्रीप्रकाश शुक्ला का साथी बताया जाता है. राजन का नाम अबतक कई आपराधिक घटनाओं में आ चुका है. शुक्ला के गैंग में रहते हुए उन्होंने कई वारदातों को अंजाम दिया. राजन तिवारी एक समय पुलिस के लिए वॉन्टेड बन चुके थे. पुलिस उनके पीछे हाथ धोकर पड़ी हुई थी. इसी बीच मौका पाकर वो बिहार भाग गए.

RJD नेता की हत्या में आया था नाम
राजन का नाम यूपी के महराजगंज की लक्ष्मीपुर विधानसभा सीट से विधायक रहे वीरेंद्र प्रताप शाही पर हमले में आ चुका है. इसके साथ ही राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के पूर्व मंत्री बृजबिहारी प्रसाद की हत्या में भी राजन का नाम सुर्खियों में आया था. इस हत्याकांड के बाद उनके नाम के आगे बाहुबली जुड़ गया.

हाई कोर्ट ने किया बरी
राजन को पुलिस ने इस हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया था. अदालत ने उन्हें इस मामल में बामुशक्कत कैद की सजा सुनाई. हालांकि, 15 साल बाद जुलाई 2014 में हाई कोर्ट ने राजन को मंत्री की हत्या के आरोप से बरी कर दिया. वो गोरखपुर जेल से रिहा हो गए.

कई पार्टियों का मिला है साथ
गौरतलब है कि राजन तिवारी पहले राजद के साथ थे. फिर उन्हें उपेंद्र कुशवाहा का साथ मिला. इसके बाद वो बसपा के साथ हो लिए. और अब फाइनली भाजपा में शामिल हो गए हैं. दिलचस्प है कि यह सब पिछले दो महीने के अंदर हुआ है.

Read Also: ‘मैं बिहार का दूसरा लालू हूं, वे हमारे आइडल हैं’- रैली में बोले तेज प्रताप यादव