षड्यंत्र के तहत मुझे भेजा जा सकता है जेल, प्रज्ञा ठाकुर ने जताया अंदेशा

इससे पहले बीजेपी उम्मीदवार और मालेगांव विस्फोट मामले की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर ने मुंबई हमले में शहीद हुए हमेंत करकरे को लेकर विवादित बयान दे दिया था, जिसे लेकर उनकी काफी आलोचना हुई.

भोपाल: प्रज्ञा ठाकुर के भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के टिकट पर भोपाल से चुनाव लड़ने को लेकर राजनीतिक पार्टियां इसका विरोध कर रही हैं. वहीं प्रज्ञा को जबसे बीजेपी का टिकट मिला है वे कांग्रेस और अपने विरोधियों पर लगातार हमले बोल रही हैं.

इसी बीच प्रज्ञा ठाकुर ने एक बार फिर अपने विरोधियों पर हमला बोल दिया है. भोपाल में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान प्रज्ञा ने कहा कि महिषासुर का वध करने के लिए देवियों को आना पड़ता है.

अपनी गिरफ्तारी का अंदेशा जताते हुए प्रज्ञा ठाकुर ने कहा, “हो सकता है षड्यंत्र के तहत मुझे जेल भेज दिया जाए, जिस तरह से एनआईए कोर्ट में याचिका लगाई जा रही हैं, ये मेरे खिलाफ षड्यंत्र किया जा रहा है.”

प्रज्ञा ने कहा, “साध्वी के अंत की आप फिक्र न करो. मैं जो हूं वही बोलती हूं. महिषासुर का वध करने के लिए देवियों को आना पड़ता है.”

प्रज्ञा साध्वी ने भोपाल में अपने प्रतिद्वंद्वी दिग्विजय सिंह पर खूब हमला बोला. प्रज्ञा ने कहा, “वे निश्चित रूप से कालनेमि हैं जो समय-समय पर अपने कई स्वरूप धारण करते रहते हैं, लेकिन उनका जो शुद्ध चरित्र है वह सामने है.”

सूबे के मुख्यमंत्री कमलनाथ को घेरते हुए बीजेपी उम्मीदवार प्रज्ञा ने कहा, “जो हत्याकांड के दोषी हैं वह यहां मुख्यमंत्री बने हुए हैं”

वहीं उमा भारती को अपनी बड़ी बहन बताते हुए प्रज्ञा ने कहा, “उमा भारती मेरी दीदी हैं. उन्होंने मेरा हाथ पकड़कर मुझे चलना सिखाया है.”

हेमंंत करकरे पर विवादित बयान दे फंसी प्रज्ञा

बीजेपी उम्मीदवार और मालेगांव विस्फोट मामले की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर के एटीएस प्रमुख रहे दिवंगत हेमंत करकरे पर दिए विवादित बयान की चौतरफा आलोचना हो रही है.

प्रज्ञा ने कोलार क्षेत्र के कार्यकर्ताओं से बात करते हुए शुक्रवार कहा था कि ‘उन दिनों वह मुंबई जेल में थीं. जांच आयोग ने सुनवाई के दौरान एटीएस के प्रमुख हेमंत करकरे को बुलाया और कहा कि जब प्रज्ञा के खिलाफ कोई सबूत नहीं है तो उन्हें छोड़ क्यों नहीं देते.’

प्रज्ञा के मुताबिक, इस पर हेमंत ने उनसे कई तरह के सवाल पूछे, जिस पर उन्होंने जवाब दिया कि “यह भगवान जाने.” इस पर करकरे ने कहा था कि “तो, क्या मुझे भगवान के पास जाना होगा?”

‘तेरा सर्वनाश होगा’

प्रज्ञा ने कहा, “उस समय मैंने करकरे से कहा था कि तेरा सर्वनाश होगा, उसी दिन से उस पर सूतक लग गया था और सवा माह के भीतर ही आतंकवादियों ने उसे मार दिया था.”

उन्होंने कहा कि हिदू मान्यता है कि परिवार में किसी का जन्म या मृत्यु होने पर सवा माह का सूतक लगता है. जिस दिन करकरे ने सवाल किए, उसी दिन से उस पर सूतक लग गया था, जिसका अंत आतंकवादियों द्वारा मारे जाने से हुआ.

हालांकि अब प्रज्ञा ने अपने इस बयान पर माफी मांग ली है.

 

प्रज्ञा ठाकुर से संबंधित खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें