बुर्के में फर्जी वोटिंग का आरोप, क्या बालियान चाहते थे हिंदू vs मुसलमान

मुजफ्फरनगर से बीजेपी उम्मीदवार और केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान के सनसनीखेज खुलासे पर सवाल उठने लगे हैं. उन्होंने बुर्के की आड़ में फर्जी वोटिंग का आरोप लगाया है.

मुजफ्फरनगर से दोबारा अपनी किस्मत आजमा रहे केंद्रीय मंत्री और बीजेपी प्रत्याशी संजीव बालियान ने सनसनीखेज आरोप लगाया है. उन्होंने अपने क्षेत्र में वोट डालने के बाद रिपोर्टरों से कहा कि सुजदों गांव के एक बूथ में फर्जी वोटिंग हो रही है.

बालियान ने कहा कि सुजदों के बूथ पर बुर्के पहनकर फर्जी वोटिंग की जा रही है. उन्होंने वोटरों की सही पहचान कराने की मांग की. बाल्यान ने कहा कि मतदान अधिकारियों को इस पर तुरंत ध्यान देना चाहिए.

हालांकि चुनाव आयोग ने बीजेपी सांसद संजीव बालियान के आरोपों का खण्डन किया है. CEO UP ने कहा कि ‘संजीव बालियान के आरोप निराधार है, हमने जिला निर्वाचन अधिकारी से इस मामले में जानकारी ली है. किसी को भी बिना पहचान के मतदान नही करने दिया जा रहा है.’

लोकसभा चुनाव से जुड़ी हर खबर यहां पढ़ें

इससे पहले टीवी 9 भारतवर्ष से बात करते हुए संजीव बालियान ने भरोसा जताया था कि वो मुजफ्फरनगर सीट से दोबारा जीतेंगे. उन्होंने कहा, यहां पुलिस से पहले बालियान पहुंचता है. हम क्षेत्र के सभी लोगों को तुरंत मदद कराते हैं. ये चौधऱी अजीत सिंह दिल्ली में रहने वाले नेता हैं. उनका मुजफ्फरनगर से कोई लेना देना नहीं हैं. वो बड़े नेता हैं, दिल्ली की राजनीति करें. यहां का काम संजीव बाल्यान पर छोड़ दें.

संजीव बालियान का सीधा मुकाबला समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और राष्ट्रीय लोक दल के साझा उम्मीदवार से है. महागठबंधन की ओर से आरएलडी के जयंत चौधरी मैदान में हैं. यहां से उनके पिता चौधरी अजीत सिंह चुनाव लड़ते आए हैं लेकिन इस बार वो जाटलैंड बागपत चले गए और बेटे को मैदान में उतारा है.

पिछले चुनाव में उन्होंने बसपा के कादिर राणा को चार लाख से भी ज्यादा वोटों से हराया था. इस लिहाज से अगर सपा-बसपा और आरएलडी के साझा मतों को जोड़ भी दें तो बाल्यान ने 2014 में ज्यादा वोट हासिल किए थे. हालांकि इस बार मुद्दे और समीकरण दोनों बदले हुए हैं.

ये भी पढ़ें..

नेहरू से लेकर मोदी सरकार को देख चुके इस बुजुर्ग वोटर ने दिया बड़ा संदेश

LIVE: 20 राज्यों की 91 सीटों पर मतदान शुरू, उत्साह से लबरेज मतदाता

शंकर महादेवन – मालिनी अवस्थी जैसी 900 हस्तियों ने खोले अपने पॉलिटिकल पत्ते, की ये अपील