बीरेंद्र सिंह ने दिया मोदी कैबिनेट से इस्तीफा, कारण जानने वाला है

भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने राजस्थान, हरियाणा और मध्य प्रदेश के लोकसभा चुनावों के लिए छह और उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की. उम्मीदवारों की इस लिस्ट में बीरेंद्र सिंह के बेटे का नाम भी है.

नई दिल्ली. भारतीय जनता पार्टी ने रविवार को हरियाणा की बची हुई दो सीटों पर अपने प्रत्याशियों का ऐलान किया. केंद्रीय मंत्री और राज्यसभा सांसद बीरेंद्र सिंह के बेटे बृजेंद्र सिंह को हिसार से टिकट मिला. टिकट का ऐलान होने के कुछ समय बाद ही बीरेंद्र सिंह ने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को कैबिनेट मंत्री और राज्यसभा पद से इस्तीफा देने की पेशकश की.

क्या बोले मंत्री? क्यों दिया इस्तीफा 

बेटे बृजेन्द्र सिंह को हरियाणा के हिसार से लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए टिकट मिलने के बाद चौधरी बीरेंद्र सिंह ने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को इस्तीफा देने की पेशकश की. चौधरी बीरेंद्र सिंह ने कहा “जब भाजपा चुनाव के लिए जाती है. वे वंशवादी शासन के खिलाफ होते हैं, इसलिए मैंने यह उचित समझा कि अगर मेरे बेटे को टिकट मिलता है तो मुझे राज्यसभा और मंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए. इसलिए मैंने अमित शाह जी को लिखा कि मैं ये पार्टी के हाथ में छोड़ता हूं, मैं इस्तीफा देने के लिए तैयार हूं.”

बीरेंद्र सिंह के बेटे बृजेंद्र सिंह IAS अधिकारी हैं.  47 साल के बृजेंद्र इस समय HAFED के एमडी हैं. बृजेंद्र के पिता बीरेंद्र सिंह 2022 तक राज्यसभा सांसद हैं और उन्होंने चुनाव लड़ने से मना कर दिया है.

भाजपा ने हरियाणा, मध्य प्रदेश और राजस्थान के 6 उम्मीदवारों की 20वीं सूची जारी की. केंद्रीय चुनाव समिति द्वारा अंतिम रूप से तय किए गए नामों में राजस्थान के दौसा से जसकौर मीणा और हरियाणा के रोहतक से अरविंद शर्मा व हिसार से बृजेन्द्र सिंह शामिल हैं. मध्य प्रदेश में खजुराहो से विष्णु दत्त शर्मा, रतलाम से जी. एस. डामोर और धार से छतर सिंह दरबार चुनाव लड़ेंगे.

Chaudhary Birender Singh, बीरेंद्र सिंह ने दिया मोदी कैबिनेट से इस्तीफा, कारण जानने वाला है