वाराणसी सीट पर चुनावी खर्च में पीएम नरेंद्र मोदी से आगे हैं कांग्रेस के अजय राय

चुनाव में खर्च की सीमा 70 लाख रुपये तय की गई थी. वाराणसी के उम्‍मीदवारों ने इसका आधा भी खर्च नहीं किया है.

नई दिल्‍ली: उत्‍तर प्रदेश की वाराणसी लोकसभा सीट पर भाजपा की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस के अजय राय और समाजवादी पार्टी की शालिनी यादव के बीच मुकाबला है. 17 मई की शाम चुनाव प्रचार की सीमा खत्‍म होने के बाद, प्रत्‍याशियों ने चुनाव खर्च का ब्‍योरा सौंपा है. व्‍यय प्रेक्षक रविकांत गुप्‍ता को दिए गए ब्‍योरे के मुताबिक, अजय राय ने चुनाव पर 16 मई तक 25 लाख रुपये खर्चे, जबकि नरेंद्र मोदी ने 24 लाख रुपये. शालिनी यादव ने प्रचार पर 9.71 लाख रुपये खर्च किए हैं. इन प्रत्‍याशियों के 17 मई से 19 मई के बीच हुए खर्च का ब्‍योरा जून के तीसरे सप्‍ताह में दिया जाएगा.

तीनों पार्टियों के प्रत्‍याशियों ने सबसे ज्‍यादा पैसा नुक्‍कड़ सभाओं पर किया है. इसके बाद प्रचार गाड़‍ियों के ईंधन, किराये पर खर्च हुआ है. लोकसभा चुनाव में एक प्रत्‍याशी अधिकतर 70 लाख रुपये खर्च कर सकता है. इस लिहाज से देखें तो किसी भी प्रत्‍याशी ने प्रचार पर तय सीमा के मुकाबले आधी रकम भी खर्च नहीं की है. अजय राय ने 15 मई को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के यहां पर रोडशो के दौरान पोस्‍टर-बैनर, चाय-नाश्‍ते पर 1 लाख रुपये से ज्‍यादा का खर्च दिखाया है.

एक प्रत्‍याशी का चुनावी खर्च ‘0’

11 मई को जो दस्‍तावेज सौंपे गए थे, उसमें 5-10 मई के बीच पीएम मोदी ने 10 लाख से ज्यादा रुपये खर्च दिखाया था. अजय राय ने 6-11 मई के बीच 7 लाख रुपये से ज्‍यादा का खर्च दिखाया था.

निर्दलीय प्रत्‍याशी मनोहर आनंद राव पाटिल ने शून्‍य चुनावी खर्च दिखाया है. उन्‍होंने अधिकारियों को बताया कि वे मंदिर में रहते हैं, सत्‍तू खात हैं पैदल ही चुनाव प्रचार करते हैं. वे महात्‍मा गांधी के वेश में बापू की फोटो गले में लटकाए नामांकन दाखिल करने पहुंचे थे.

ये भी पढ़ें

जिस वाराणसी से हुई मोदी युग की शुरुआत, उसके सियासी मूड की A-B-C-D

वाराणसी पर देश की नज़र, VVIP सीट का पूरा गणित जानिए