राजस्थान के स्कूलों में पढ़ाई जाने वाली सावरकर की जीवनी में बदलाव करेगी कांग्रेस सरकार

राजस्थान शिक्षा मंत्री ने कहा कि कांग्रेस का मानना ​​है कि बच्चों को एक ईमानदारी और सही तरीके से इतिहास पढ़ाया जाना चाहिए.

जयपुर: राजस्थान में कांग्रेस ने स्कूलों में पढ़ाए जाने वाले स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर की जीवनी में बदलाव लाने का फैसला किया है. उनका कहना है कि मौजूदा संस्करण में पिछली भाजपा सरकार और आरएसएस के राजनीतिक हितों को साधने की कोशिश की गई थी.

राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा ने कहा कि छात्रों को सही तरीके से इतिहास पढ़ाने के लिए पाठ्यक्रम को संशोधित किया जाएगा. समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में उन्होंने कहा कि इस विषय के लिए गठित समिति की ओर से शिक्षा विभाग को बदलाव प्रस्तावित किए गए थे.

उन्होंने कहा कि सावरकर की छवि को चमकाकर आरएसएस के राजनीतिक हितों को साधा गया है. गोविंद डोटासरा ने कहा कि तत्कालीन भाजपा सरकार ने शिक्षा विभाग को प्रयोगशाला बना दिया और इसने आरएसएस के राजनीतिक हितों के लिए पाठ्यक्रम में बदलाव किए.

उन्होंने कहा तत्कालीन सरकार ने वीर सावरकर की जीवनी बनाई थी. इस विषय के तथ्यों को हमारी सरकार ने एक समीक्षा समिति को संशोधित कराने के लिए भेजा गया था. रिपोर्ट में कहा गया है कि सावरकर की छवि को राजनीतिक हितों के लिए अधिक बड़ा-चढ़ाकर प्रस्तुत किया गया था.

राजस्थान शिक्षा मंत्री ने कहा कि अन्य स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान को उचित महत्व नहीं दिया गया. उनका कहना है कि कांग्रेस का मानना ​​है कि बच्चों को एक ईमानदारी और सही तरीके से इतिहास पढ़ाया जाना चाहिए. यही कारण है कि शिक्षा विभाग मामले को गंभीरता से ले रहा है और सही तरीके से पाठ्यक्रम को बदलने पर अडिग भी है.

ये भी पढ़ें: पीएम मोदी की बादल थ्योरी तो सुन ली लेकिन याद है लालू का पानी से बिजली निकालने वाला ज्ञान