‘बाटला एनकाउंटर पर कांग्रेसी नेताओं ने आतंकियों के लिए बहाए थे आंसू, क्या ये शहीदों का अपमान नहीं?’

क्या आपको खागरागढ़ विस्फोट याद है जो यहां कुछ वर्ष पहले दुर्गा पूजा के दौरान हुआ था? विस्फोट की जांच को रोकने की कोशिश किसने की? क्या आपको लगता है कि इस तरह के लोग आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ने में सक्षम हैं?
Pm Modi on hindu Terror, ‘बाटला एनकाउंटर पर कांग्रेसी नेताओं ने आतंकियों के लिए बहाए थे आंसू, क्या ये शहीदों का अपमान नहीं?’

नई दिल्ली: पीएम मोदी ने बिहार के अररिया में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए एक बार फिर से पाकिस्तान और हिंदू शब्द का इस्तेमाल करते हुए कांग्रेस पर कई आरोप लगाए हैं. सबसे पहले पीएम मोदी ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि हिंदुओं के साथ कांग्रेस ने जबरन आतंकी शब्द जोड़ने की साज़िश की है.

वहीं बाटला एनकाउंटर को लेकर पीएम मोदी ने कहा, ‘बाटला एनकाउंटर पर कांग्रेस के नेताओं ने आंसू बहाया था, क्या आतंकवादियों के लिए रोना शहीदों का अपमान नहीं है? मेरा सपना संकल्प होता है और मैं संकल्प के लिए शरीर का कण-कण खपा देता हूं.’

वहीं मुंबई हमले के बाद कांग्रेस पर तत्काल कार्रवाई करने में असफल रहने का आरोप लगाते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘भारतीय जवानों ने मुंबई हमले के बाद पाकिस्तान पर कार्रवाई करने की इजाज़त मांगी थी लेकिन वोट भक्ति के कारण कांग्रेस ने ऐसा करने नहीं दिया.’

ममता को हवाई हमले का सबूत मांगना बंद करना चाहिए

बालाकोट एयरस्ट्राइक पर सवाल खड़े करने को लेकर पीएम मोदी ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से शनिवार को कहा कि वह भारतीय वायु सेना द्वारा बालाकोट में किए गए हवाई हमले का सबूत मांगना बंद करें. उन्होंने कहा कि इसके बदले उन्हें चिट फंड घोटालों के ‘सबूतों’ और राज्य में हुई घुसपैठ पर ध्यान देना चाहिए.

मोदी ने पश्चिम बंगाल के दक्षिण दिनाजपुर जिले में एक जनसभा के दौरान लोगों से पूछा, “भारतीय सेना द्वारा पाकिस्तान में घुसने और आतंकवादियों को समाप्त करने के बाद, दीदी उन लोगों में शामिल थी, जिन्होंने इसके लिए सबूत मांगा था. क्या आप लोगों को भी सबूत की जरूरत है या फिर आपको सेना के शब्दों पर विश्वास है?”

उन्होंने कहा, “दीदी, अगर आप सच में सबूत चाहती हैं, तो फिर आप चिटफंड घोटाले के अपराधियों और घुसपैठियों के खिलाफ सबूत का पता लगाइए. हमारे सेना से सबूत मांगना बंद करें. हमारे वीर जवान उनके कार्य के खुद ही सबूत हैं.”

बनर्जी और उनके सहयोगियों पर वोटबैंक के लिए आतंवादियों पर कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाते हुए, मोदी ने कहा कि देश को एक ऐसे मॉडल की जरूरत है जिसमें सभी लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित हो सके और आतंकवादियों के बीच एक डर का माहौल बन सके.

उन्होंने कहा, “क्या आपको खागरागढ़ विस्फोट याद है जो यहां कुछ वर्ष पहले दुर्गा पूजा के दौरान हुआ था? विस्फोट की जांच को रोकने की कोशिश किसने की? क्या आपको लगता है कि इस तरह के लोग आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ने में सक्षम हैं?”

मोदी ने कहा, “ममता बनर्जी जैसी नेता अपने वोटबैंक को देखने के बाद आतंकवाद के विरुद्ध कार्रवाई करने का निर्णय लेती हैं.”

उन्होंने कहा, “लेकिन यह चौकीदार, आतंकवादियों को उसी की भाषा में जवाब देता है. भारत आतंकवादियों को उनके घरों में घुसकर मार रहा है.”

मोदी ने कहा, “मुझे बताइए, क्या अब आतंकवादी डरे हुए हैं या नहीं? बताइए मुझे, मोदी सही चीज कर रहा है या नहीं?”

प्रधानमंत्री ने कहा कि एक बार सत्ता में आने के बाद, उनकी सरकार घुसपैठियों को रोकने के लिए कड़े कदम उठाएगी.

मोदी ने कहा, “आपको पता है 23 मई को क्या होगा? चुनाव के नतीजे आएंगे और फिर से मोदी सरकार बनेगी. हम घुसपैठियों के खिलाफ और कड़े कदम उठाएंगे और उन्हें यहां से वापस भेजेंगे.”

Related Posts