मंच पर खुलेआम पैसे बांटते दिखे इमरान मसूद, वीडियो वायरल होने पर बनाया ये बहाना

यह वीडियो गुरुवार का बताया जा रहा है जिसमें इमरान मसूद एक सभा को संबोधित कर रहे हैं. इस बीच वो अपनी जेब से नोटों की गड्डी निकालते हैं और एक व्यक्ति को देते हैं.

नई दिल्ली: यूपी के सहारनपुर से कांग्रेस प्रत्याशी इमरान मसूद इस बार एक वीडियो को लेकर सुर्खियों में है. इस वीडियो में इमरान मसूद कथित रूप से लोकसभा चुनाव 2019 के प्रचार के लिए पैसे बांटते दिख रहे हैं.

यह वीडियो गुरुवार का बताया जा रहा है जिसमें इमरान मसूद एक सभा को संबोधित कर रहे हैं. इस बीच वो अपनी जेब से नोटों की गड्डी निकालते हैं और एक व्यक्ति को देते हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक यह वीडियो रैली में शामिल हुए एक व्यक्ति ने अपने मोबाइल फोन से फिल्माया है.

हालांकि इमरान मसूद ने इस वीडियो पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ‘यह विपक्षियों द्वारा फैलाया जा रहा एक प्रोपेगेंडा है. मैं उस दिन बीमार था इसलिए मैनें अपने भतीजे को दवाई लाने के लिए पैसा दिया था.’

बता दें कि साल 2014 में इमरान मसूद ‘पीएम मोदी के टुकड़े’ करने वाले बयान को लेकर चर्चा में थे. उनके इस बयान पर उस समय काफी विवाद हुआ था.

पीएम मोदी ने शुक्रवार की रैली में इमरान मसूद के उसी विवादित बयान का जिक्र करते हुए कहा, “यहां तो ‘बोटी-बोटी’ करने वाले साहब भी हैं, जो कांग्रेस के शहजादे के करीबी हैं. उन पर शहजादे को ज्यादा ही प्यार आता है.”

मोदी ने कहा, ‘वे लोग बोटी-बोटी करने वाले लोग हैं, हम बेटी-बेटी को सम्मान देने वाले लोग हैं. हमने यूपी की करीब 90 लाख बेटियों को मुद्रा लोन दिए, घरों में शौचालय बनवाए और महिलाओं के नाम पर आवास दिए.’

बीजेपी के लिए सहारनपुर लोकसभा सीट बचाना अब इज्जत का सवाल हो गया है. बीजेपी प्रत्याशी राघव लखनपाल के पिता कद्दावर नेता और विधायक थे. उनकी हत्या के बाद सहानुभूति में राघव लखन पाल पहले विधायक और 2014 में सांसद चुने गए. इस बार उनपर विरासत बचाने की चुनौती है.

कांग्रेस के फायर ब्रांड नेता इमरान मसूद का परिवार भी सियासी दृष्टिकोण से काफी अहम है. वहीं सपा-बसपा गठबंधन के प्रत्याशी फजलुर्रहमान इस चुनावी जंग को त्रिकोणीय बना रहे हैं.

Related Posts