BJP के टिकट पर राजसमंद से ताल ठोकेंगी दीया कुमारी, दौसा सीट पर फंसा पेंच

दीया कुमारी ने 2013 में राजनीति में कदम रखा था. 2013 में वो सवाई माधोपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ीं और विधायक बनीं. 2018 में उन्होंने विधानसभा चुनाव में चुनाव लड़ने से मना कर दिया था.
lok sabha election 2019, BJP के टिकट पर राजसमंद से ताल ठोकेंगी दीया कुमारी, दौसा सीट पर फंसा पेंच

जयपुर: लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राजस्थान में अब तक 23 उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी है. भाजपा ने अपनी तीसरी लिस्ट में प्रदेश की चार लोकसभा सीटों के लिए उम्मीदवारों के नाम का ऐलान किया है. पार्टी ने एक सीट (नागौर) गठबंधन में आरएलपी के लिए छोड़ी है. अब तक दौसा सीट पर भाजपा ने कोई उम्मीदवार घोषित नहीं किया है.

भाजपा की तीसरी लिस्ट में राजसमंद लोकसभा सीट से दीया कुमारी को टिकट मिला है. दीया कुमारी ने 2013 में राजनीति में कदम रखा था. 2013 में वो सवाई माधोपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ीं और विधायक बनीं. उन्होंने 2018 में विधानसभा चुनाव में चुनाव लड़ने से मना कर दिया था.

भाजपा ने बाड़मेर लोकसभा सीट से कैलाश चौधरी को प्रत्याशी बनाया है. कैलाश बायतु से भाजपा के पूर्व विधायक रहे हैं. इसके अलावा करौली-धौलपुर लोकसभा सीट से मनोज राजौरिया को टिकट दिया गया है. मनोज 2014 में सांसद बने.

इसके साथ ही भरतपुर लोकसभा सीट से भाजपा ने रंजीता कोली को प्रत्याशी बनाया है. रंजीता विधानसभा चुनाव में भरतपुर से टिकट मांग रही थीं लेकिन उनको टिकट नहीं दिया गया. रंजीता भरतपुर से पूर्व सांसद गंगाराम कोली की पुत्रवधु हैं.

दौसा का टिकट नहीं हुआ फाइनल
भाजपा के लिए सबसे पेंचीदा समझी जाने वाली सीट दौसा का टिकट अब तक फाइनल नहीं हुआ है. दरअसल दौसा के अंदर राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा और निर्दलीय विधायक ओम प्रकाश हुडला के बीच अदावत बतायी जा रही है.

इन चारों नामों में से दो नामों को लेकर सियासी गलियारों में काफी चर्चा हो रही है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, पूर्व मुख्यमंत्री वंसुधरा राजे बाड़मेर और और राजसमंद सीट पर अपनी पंसद के उम्मीदवार लड़ाना चाहती थीं.

दीया की वसुंधरा से है अदावत
वसुंधरा बाड़मेर से एक आईपीएस अधिकारी को भाजपा उम्मीदवार बनाना चाहती थीं. दीया कुमार से राजमहल प्रकरण के बाद उनकी पुरानी अदावत बतायी जा रही है. इसके चलते वसुंधरा अंदरखाने उनका विरोध कर रही थीं. लेकिन दीया को आरएसएस के खेमे की ओर टिकट दिया गया है.

इस प्रकार से जोधपुर, बीकानेर, जयपुर ग्रामीण, झालावाड़ के बाद अब प्रदेश की हॉट सीटों की फेहरिस्त में दो और सीटें शामिल हो गयी हैं.

बाड़मेर से भाजपा की ओर से कैलाश चौधरी को उम्मीदवार बनाया गया है. वहीं, कांग्रेस की ओर से इस सीट पर पूर्व विदेश मंत्री जसवंत सिंह के पुत्र मानवेंद्र सिंह मैदान में उतारे गए हैं.

राजसमंद से जहां कांग्रेस ने देवकी नंदन को उतरा है. वहीं, भाजपा ने जयपुर राजधराने की महारानी पूर्व विधायक दीया कुमारी को उतरा है. बहरहाल, वसुंधरा की नापंसद बातई जाने वाली इन दोनों हॉट सीटों पर क्या सियासी समीकरण रहता है, ये देखने वाली बात होगी.

Related Posts