सेना वाले बयान पर घिरे यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ, EC ने मांगी रिपोर्ट

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद में एक रैली के दौरान कहा था कि कांग्रेस के लोग आतंकवादियों को बिरयानी खिलाते थे और 'मोदी जी की सेना' उन्हें सिर्फ गोली और गोला देती है.

लखनऊ: चुनाव आयोग ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ‘मोदी जी की सेना’ वाले बयान पर गाजियाबाद के डीएम से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है.

दरअसल यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक रैली के दौरान भारतीय सेना के लिए ‘मोदी जी की सेना’ शब्द का इस्तेमाल किया था. विपक्ष ने सीएम योगी के उस बयान को सेना का अपमान बताया है.

सूत्रों के मुताबिक मीडिया रिपोर्ट का संज्ञान लेते हुए चुनाव आयोग ने ग़ाज़ियाबाद के डीएम से रिपोर्ट जमा करने का निर्देश दिया है.

रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद में एक रैली के दौरान कहा था कि ‘कांग्रेस के लोग आतंकवादियों को बिरयानी खिलाते थे और ‘मोदी जी की सेना’ उन्हें सिर्फ गोली और गोला देती है. यह अंतर है. कांग्रेस के लोग मसूद अजहर जैसे आतंकियों के लिए जी का इस्तेमाल करते हैं, मगर पीएम मोदी के नेतृत्व में बीजेपी सरकार आतंकियों के कैंप पर हमले कर उनका कमर तोड़ती है.

सीएम आदित्यनाथ ने अखलाक के गांव में रैली के दौरान आगे कहा, ‘सरकार तुष्टिकरण नहीं, सबके लिए काम करती है. कांग्रेस के लिए जो नामुमकिन होता है, वह पीएम मोदी के लिए मुमकिन होता है. क्योंकि पीएम मोदी के लिए असंभव भी संभव बन जाता है.’

सीएम योगी आदित्यनाथ आगे बोले पाकिस्तान रो रहा है लेकिन यहां विपक्षी दल वोट बैंक के लिए सबूत मांग रहे हैं.

सीएम योगी के इस बयान को लेकर विपक्षी पार्टियां भी अब हमलावर हो गयी है.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, “यूपी सीएम का यह कहना कि भारतीय सेना ‘मोदी की सेना’ है, हैरान करने वाला है. ऐसा बेखौफ वैयक्‍तिकीकरण और इस तरह हमारी प्रिय भारतीय सेना को हड़पना बेहद अपमानजनक है.”

वहीं कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने योगी आदित्यनाथ से माफी की मांग की है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘यह हमारी भारतीय सेना का अपमान है. वे भारतीय सेना के जवान हैं, किसी प्राइवेट प्रचार मंत्री के नहीं. योगी आदित्यनाथ को माफी मांगनी चाहिए.’