चुनाव आयोग ने मेनका गांधी को भेजा नोटिस, केंद्रीय मंत्री ने मुसलमानों पर की थी ये टिप्पणी

मेनका ने कहा था, "जीत तो मेरी पहले हो चुकी है. मैं मुस्लिमों के समर्थन से जीतना चाहती हूं. अगर मुसलमानों के समर्थन के बगैर मेरी जीत होगी तो मुझे अच्छा नहीं लगेगा."
Maneka Gandhi, चुनाव आयोग ने मेनका गांधी को भेजा नोटिस, केंद्रीय मंत्री ने मुसलमानों पर की थी ये टिप्पणी

लखनऊ: केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी द्वारा मुस्लिमों पर दिए गए विवादित बयान का चुनाव आयोग ने संज्ञान लिया है. सुल्तानपुर के जिलाधिकारी और अतिरिक्त मुख्य चुनाव अधिकारी बी आर तिवारी की ओर से इसे लेकर नोटिस जारी की गई है.

बता दें कि मेनका ने शुक्रवार को सुलतानपुर में अपनी जीत का दावा करते हुए कहा था कि जीत के बाद अगर मुसलमान उनके पास काम करवाने आता है तो उन्हें इस बारे में सोचना पड़ेगा.

‘अधूरे बयान पर हो रही चर्चा’
हालांकि मेनका ने बाद में अपने बयान पर सफाई दी और कहा कि ‘मेरे अधूरे बयान पर चर्चा की जा रही है लेकिन यह पूरा नहीं है. मैंने अपनी माइनॉरिटी सेल के साथ भी बैठक बुलाई है.’


‘मुस्लिमों के समर्थन से जीतना चाहती हूं’
मेनका ने सुलतानपुर में एक चुनावी जनसभा के दौरान कहा था, “जीत तो मेरी पहले हो चुकी है. मैं मुस्लिमों के समर्थन से जीतना चाहती हूं. अगर मुसलमानों के समर्थन के बगैर मेरी जीत होगी तो मुझे अच्छा नहीं लगेगा.”

उन्होंने कहा कि अगर वे मुझे वोट नहीं करेंगे तो मैं उनकी सहायता नहीं करूंगी. उन्होंने अपनी बात जारी रखते हुए वहां मौजूद लोगों से ही सवाल कर दिया-“यह बात सही है कि नहीं? यह आपको पहचानना पड़ेगा.”


‘दोस्ती का हाथ लेकर आई हूं’
मेनका ने कहा, “मैं दोस्ती का हाथ लेकर आई हूं. चुनाव नतीजे आएंगे. उसमें 100 वोट या 50 वोट निकलेंगे. उसके बाद जब आप काम के लिए आएंगे तो वही होगा मेरे साथ. इसलिए जब आप मेरे ही हो तो क्यूं नहीं मेरे ही रहो.”

उन्होंने कहा, “दिल खट्टा हो जाता है जब कोई मुसलमान काम लेकर आता है. तब मैं सोचती हूं कि रहने ही दो, क्योंकि नौकरी भी तो आखिर सौदेबाजी होती है. हम महात्मा गांधी की छठी औलाद तो हैं नहीं कि देते ही जाएंगे और इलेक्शन में मार खाते जाएंगे.”

Read Also: मुसलमानों के बारे में ये क्या कह गईं केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी?

Related Posts